Sunday, 21 February 2021

एक गीत-नीड़ तो मैं टहनियों पर ही बनाऊँगा

 

चित्र साभार गूगल

एक गीत-नीड़ तो मैं टहनियों पर ही बनाऊँगा


नीड़ तो मैं

टहनियों पर

ही बनाऊँगा ।

गीत

लेकिन सिर्फ़

माटी के सुनाऊँगा ।


हम परिंदे

आग और

तूफ़ान से खेले,

बाज के

पंजे

हवा के बीच में झेले,

वक्त की

हर चोट पर

मरहम लगाऊँगा ।


छाँह मिलनी

चाहिए

रेतों, पठारों को,

चाहिए

कितना हरापन

हरसिंगारों को,

देखना

मैं धूप को

दरपन दिखाऊँगा ।


युगों से

भटका हुआ

मन चाँद-तारों में,

है असल

संजीवनी

चीड़ों-चिनारों में,

स्वप्न में 

परियाँ नहीं

तुमको बुलाऊँगा ।

कवि जयकृष्ण राय तुषार


चित्र साभार गूगल



कवि जयकृष्ण राय तुषार

11 comments:

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद |

एक ग़ज़ल-धर्मग्रन्थों में ही किस्सा रह गया परिजात का

  चित्र साभार गूगल एक ग़ज़ल कुछ हुनर कुछ दुश्मनों से धन मिला ख़ैरात का हर गली धरना,प्रदर्शन चल रहा हज़रात का बादलों में छिपके जो दिन में अँधेरा ...