Thursday, 30 April 2020

एक गीत -कौन है मुल्क बता जैसा वतन है मेरा

चित्र -साभार गूगल 

अपनी मातृभूमि भारत माता को समर्पित एक देश गीत -
एक गीत -कौन है मुल्क बता ? जैसा वतन है मेरा 

अनगिनत रंग के 
फूलों का चमन है मेरा |
कौन है मुल्क बता 
जैसा वतन है मेरा ?

आरती ,पूजा बिना 
जिसकी कोई शाम नहीं ,
पूरी दुनिया में कहीं 
कृष्ण नहीं ,राम नहीं ,
इसकी खुशबू नहीं कम 
हो ये जतन है मेरा |

बाइबिल ,ग्रन्थ है 
कुरआन है ,गीता जिसमें ,
राम की गाथा में 
हनुमान हैं ,सीता जिसमें ,
सारे रंगों को 
समेटे ये गगन है मेरा ।

इसमें हर रंग के 
मौसम हैं ,फ़साने कितने ,
जंगे आज़ादी ने 
गाये हैं तराने कितने ,
जब तलक साँस 
तिरंगे को नमन है मेरा |

सूर ,तुलसी ,नज़ीर 
मीरा है रसखान यहाँ ,
पढ़के सोते हैं सभी 
मीर का दीवान यहाँ ,
अहले महफ़िल के लिए 
शेरो सुखन है मेरा |


पर्वतों ,घाटियों 
नदियों की फ़िज़ाएँ हैं यहाँ,
मौसमी गीत 
परिंदों की सदाएँ हैं यहाँ,
तितलियों ,भौरों से 
आबाद चमन है मेरा |

साधुओं,संतों फ़रिश्तों 
का ये बुतखाना है ,
जो भी भटके हैं उन्हें 
प्यार से समझाना है , 
माँ के चरणों में 
हरेक गीत -भजन है मेरा |

कवि -जयकृष्ण राय तुषार 

चित्र -साभार गूगल 

Wednesday, 22 April 2020

एक गीत -चलो प्रिये ! गठरी ले




चित्र -साभार गूगल 
यह गीत गाँव की तरफ शहर से पलायन करने वाले छोटे कलाकारों,कामगारों और मजदूरों को समर्पित है
एक गीत -चलो प्रिये ! गठरी ले फिर अपने गाँव चलें 

चलो प्रिये !
गठरी ले 
फिर अपने गाँव चलें |
कुछ 
घोड़ागाड़ी से 
कुछ नंगे पाँव चलें |

चिड़ियों के 
नये -नये 
जोड़े फिर आयेंगे ,
पेड़ पर 
बबूलों के 
घोंसले बनायेंगे ,
पत्थरदिल 
शहरों से 
पीपल की छाँव चलें |

गाय -बैल ,
पिंजरे के 
तोते को खोलेंगे ,
छोटों को 
स्नेह ,बड़ों 
को प्रणाम बोलेंगे ,
कठवत में 
धोयेंगे 
दादी के पाँव चलें |

रिश्ते जो 
टूट गये 
फिर उनकों जोड़ेंगे ,
ठनक गये 
खेतों की 
मिटटी को फोड़ेंगे ,
घर के 
मुंडेरों पर सुनें 
काँव -काँव चलें |

आछी के 
फूल जहाँ 
मेहँदी के पात हरे ,
हँसती है 
भोर-साँझ
माँग में सिन्दूर भरे ,
आम और 
महुआ के 
फूलों के ठाँव चलें |

कवि -जयकृष्ण राय तुषार 


चित्र -साभार गूगल 

Monday, 20 April 2020

एक गीत -जंगल में हिरनों की चीखें सुनते कहाँ पहाड़

पवित्र नर्मदा नदी -चित्र साभार गूगल 

एक गीत -
जंगल में हिरनों की चीखें सुनते कहाँ पहाड़ 

जंगल में 
हिरनों की चीखें 
सुनते कहाँ पहाड़ |

विन्ध्य ,सतपुड़ा 
मौन नर्मदा 
किससे कहे निमाड़ |

झरने लगे 
ज़हर फूलों से 
मौसम सोया है ,
नदियों के 
समीप ही 
जलकर जंगल रोया है ,

संकट में 
अपने ही घर के 
खुलते नहीं किवाड़ |

शहर न जाना 
छिपकर बैठे 
कितने आदमखोर ,
साँपों से 
गठबंधन करके 
नाच रहे कुछ मोर ,

घर में भी 
महफूज नहीं हम 
कौन लगाये बाड़ |

झरनों की 
जलती लहरें हैं 
लावा फूटा है ,
समरसता 
तक जाने वाला 
हर पुल टूटा है ,

संध्याएँ 
सहमी ,विक्षिप्त दिन 
सुबहें लगें उजाड़ |

कवि -जयकृष्ण राय तुषार 

चित्र -साभार गूगल 

Monday, 13 April 2020

एक गीत -हम हैं एक सिपाही अपना फर्ज़ निभाते हैं



भारतीय पुलिस ,प्रशासनिक अधिकारियों एवं उनके परिवारों को समर्पित एक कविता /गीत 

समय के साथ भारतीय पुलिस का चेहरा काफी कुछ बदल रहा है लेकिन वर्दी के रुतबे के भीतर भी एक दर्द छिपा रहता है जो किसी से कहा नहीं जाता किसी से सुना नहीं जाता | वर्तमान वैश्विक महामारी में पुलिस अपना कार्य बहुत पेशेवर और मानवीय ढंग से कर रही है | पुलिस का कार्य काफी चुनौतीपूर्ण होता है अनेकों दबावों के साथ उन्हें अपना फ़र्ज़ निभाना पड़ता है | यह गीत पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को समर्पित है जो अपने कर्तव्य पथ पर शहीद हो गये हैं | यह  गीत भारतीय पुलिस सेवा के सभी अधिकारियों ,प्रान्तीय पुलिस अधिकारियों एवं पुलिस कर्मियों को समर्पित है |



एक गीत -
हम हैं एक सिपाही अपना फर्ज़ निभाते हैं 

पत्थर खाते 
गाली खाते 
गोली खाते हैं |
हम हैं एक
सिपाही अपना
फ़र्ज़ निभाते हैं |

नीलकंठ 
बन रोज हलाहल 
हम भी पीते हैं ,
पत्नी ,बच्चे 
उत्सव ,मेला 
छोड़ के जीते हैं ,

राजा जैसा 
कहता वैसा 
गीत सुनाते हैं |

होली ,ईस्टर 
ईद ,मोहर्रम 
आप मनाते हैं ,
हम तो केवल 
अमन चैन 
की राह बनाते हैं ,

लावारिस  
लाशों को भी  
हम रोज उठाते हैं |

बारिश ,आँधी 
ओले ,पत्थर
सब कुछ सहते हैं ,
गुण्डों से 
धमकी मिलती 
हम किससे  कहते हैं ,

फर्ज़ निभाने 
में हम अक्सर 
जान गँवाते हैं |

कोर्ट -कचहरी 
केस डायरी 
दबिश ,गवाही है ,
ह्यूमन राइट 
मुज़रिम के संग 
नई तबाही है ,

फिर भी 
सिंघम बनकर 
कुछ तो न्याय दिलाते हैं |

काँटों वाले 
जंगल से 
फूलों को चुनते हैं ,
डी० एम ० 
सी०एम०,अख़बारों 
की सबकी सुनते हैं ,

वर्दी के 
रुतबे में 
सारा दर्द छिपाते हैं | 

कवि -जयकृष्ण राय तुषार 
चित्र -गूगल से साभार -सिंघम 



Sunday, 5 April 2020

एक गीत -एक दिए की लौ में होगी हँसकर सारी बात

माननीय श्री नरेंद्र मोदी जी
यशस्वी प्रधानमन्त्री ,भारत सरकार 




विशेष -आज मेरा यह गीत माननीय प्रधानमन्त्री श्री नरेंद्र मोदी जी के दीप प्रज्ज्वलन के आह्वान को समर्पित है |यह गीत उन योद्धाओं को भी समर्पित है जो प्रशासन,पुलिस,चिकित्सा,या किसी भी रूप में  इस जंग में शामिल हैं |यह कविता उन महान दानवीरों को भी समर्पित है जिन्होंने दिल खोलकर सरकार की मदद किया। आज रात नौ बजे नौ  मिनट मोदी जी के साथ दिए रहे हाथ |सादर प्रणाम सहित 


चित्र-साभार गूगल

एक गीत -एक दिए की लौ में होगी हँसकर सारी बात 

एक दिए की 
लौ में होगी 
हँसकर सारी बात |
हम जीतेंगे 
और मिलेगी 
कोरोना को मात |

जन -जन बाती 
बनें देश की 
मन में रहे हुलास ,
जम्मू ,केरल ,
पटना ,काशी 
या प्रयाग ,देवास ,

गाँव ,शहर 
के संग खड़े हों 
वन में कोल ,किरात |

खुली खिड़कियों 
से देखेंगे 
तारों भरा गगन ,
मन के जोगी
आज लगाना 
माथे पर चन्दन ,

झीने घूँघट 
में ही आना 
आज चाँदनी रात |

साथ भागवत 
लाना लेकिन 
सुनना मेरे गीत ,
पंचम दा सा 
देना मेरे 
गीतों को संगीत ,

यादगार हो 
सभी कुँवारे 
सपनों की बारात |

इन्द्रधनुष हो 
नये क्षितिज पर 
सभी दिशाओं में ,
जीवन का 
हर मन्त्र मिलेगा 
वेद ऋचाओं में ,

ऋतुएँ जब भी 
लगें उबासी 
होना तुम परिजात |

कवि -जयकृष्ण राय तुषार 


चित्र -साभार गूगल 

Wednesday, 1 April 2020

एक गीत -मेरे इन गीतों में रंग नहीं मेरा है



कृष्ण भक्त मीराबाई -चित्र -साभार गूगल 



एक गीत -
मेरे इन गीतों में रंग नहीं मेरा है 

मेरे इन गीतों में 
रंग नहीं मेरा है |
मुझसे लिखवाता जो 
कौन वह चितेरा है ?

फूलों से गन्ध मिली 
मन लिए हवाओं से ,
सारा  श्रृंगार मिला 
रूपसी कथाओं से 
सुबहों का उजियारा 
रात का अँधेरा है |

गीत मैं चुराता हूँ 
धूप कभी बादल से ,
अधरों की मधुर हँसी 
नयनों के काजल से ,
भौरों सा मन अपना 
फूल पर बसेरा है |

जीवन का सुख दुःख 
ही गीत है रुबाई है ,
अनुभव के पृष्ठों पर 
अश्रु रोशनाई है ,
चित्र सब हमारे हैं 
रंग रूप तेरा है |

जब तक मन वृन्दावन 
बाँसुरी बजाता है ,
मीराबाई गाती 
सूरदास गाता है ,
निर्गुण मन के पथ पर 
जोगी का फेरा है |

जयकृष्ण राय तुषार 




चित्र -साभार गूगल 

एक मौसमी गीत-होठों पे गीत लिए रोपेंगे धान

चित्र साभार गूगल एक गीत- होठों पे  गीत लिए रोपेंगे धान । धानों के साथ हरे होंगे ये पान । फूलों पर खुश होगी तितली की रानी, रिमझिम बरसो बादल ख...