Tuesday, 11 May 2021

एक प्रेमगीत -हो न हो मौसम बदल जाये

 

चित्र -साभार गूगल 

एक प्रेम गीत -हो न हो मौसम बदल जाये 

भींगते 
इन फूल ,पत्तों में 
चाँदनी  हँसकर फिसल जाये |
थाम लूँ 
मैं दौड़कर उसको 
हो न हो मौसम बदल जाये |

यह उदासी 
तोड़ दे शायद 
घास पर बैठी हुई तितली ,
हमें तिरना 
भी सिखा देगी 
धार में बहती हुई मछली ,
होंठ से छूना  
मेरी वंशी   
प्रेम भींगा स्वर निकल जाये |

पी रहे हैं
हम हवा में विष 
ख़ुशबुओं का द्वार खुल जाये ,
फिर जवाबी 
ख़त मिले कोई 
अजनबी का प्यार मिल जाये ,
माथ  पर 
बालार्क सी टिकुली 
गहन अँधेरा निगल जाये |

फिर सिन्दूरी 
मेघ संध्या के 
इंद्रधनु की याद में खोये ,
अंकुरित 
होने लगे सपने 
जो किसी ने नयन में बोये ,
हमें सागर 
तट मिले मोती 
ज्वार सा यह मन उछल जाये |

कवि -जयकृष्ण राय तुषार 
   
चित्र -साभार गूगल 

12 comments:

  1. काश , सच मौसम बदल जाय । सुंदर गीत ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आपका।सादर प्रणाम

      Delete
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 13-05-2021को चर्चा – 4,064 में दिया गया है।
    आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी।
    धन्यवाद सहित
    दिलबागसिंह विर्क

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आपका।सादर प्रणाम

      Delete
  3. एवमस्तु ! ऐसा अवश्य होगा । अति सुन्दर भाव ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. अमृता जी आपका हृदय से आभार।सादर अभिवादन

      Delete
  4. अति सुन्दर

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आपका सर।सादर अभिवादन

      Delete
  5. बहुत सुंदर गीत।

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद |

एक मौसमी गीत-होठों पे गीत लिए रोपेंगे धान

चित्र साभार गूगल एक गीत- होठों पे  गीत लिए रोपेंगे धान । धानों के साथ हरे होंगे ये पान । फूलों पर खुश होगी तितली की रानी, रिमझिम बरसो बादल ख...