Thursday, 18 November 2021

एक ग़ज़ल-वो मीर की ग़ज़ल है

 

चित्र साभार गूगल

एक ग़ज़ल-वो मीर की ग़ज़ल है


खुशबू किसी के रेशमी बालों से आ रही

वो मीर की ग़ज़ल है रिसालों से आ रही


सुनता कोई अकेले में खुलकर कोई इसे

कैसी सदा-ए-इश्क़ है सालों से आ रही


हम चाँदनी का ख़्वाब सजाते ही रह गए

चादर धुएँ की दिन के उजालों से आ रही


पत्ते-तने हरे थे मगर फल कहीं न थे

चिड़िया उदास आम की डालों से आ रही


जादूगरी,तिलस्म किसी काम का नहीं

मुश्किल तमाशा देखने वालों से आ रही


कवि जयकृष्ण राय तुषार 

चित्र साभार गूगल


चित्र साभार गूगल

18 comments:

  1. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार(१९-११-२०२१) को
    'प्रेम-प्रवण '(चर्चा अंक-४२५३)
    पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आपका अनीता जी ।सादर अभिवादन

      Delete
  2. Replies
    1. हार्दिक आभार आपका।सादर अभिवादन ज्योति जी

      Delete
  3. शानदार/उम्दा प्रस्तुति।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आपका।सादर अभिवादन

      Delete
  4. बेहतरीन रचना शुभकामनाएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आपका।सादर अभिवादन

      Delete
  5. बहुत सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका बहुत बहुत आभार आदरणीय।सादर अभिवादन

      Delete
  6. यह कोई मामूली ग़ज़ल नहीं कमाल है लफ़्ज़ों का। दाद देते-देते ज़ुबां थक सकती है, दिल नहीं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से आभार।सादर अभिवादन

      Delete
  7. सुंदर भावभरी गजल ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपका हृदय से आभार।सादर अभिवादन

      Delete
  8. वाह! बहुत ही खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  9. बेहद सुंदर कृति

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद |

एक ग़ज़ल-कितना अच्छा मौसम यार पुराना था

  चित्र साभार गूगल एक ग़ज़ल-कितना अच्छा मौसम यार पुराना था कितना अच्छा मौसम यार पुराना था घर- घर में सिलोन रेडियो गाना था खुशबू के ख़त होठों के...