Tuesday, 3 August 2021

एक गीत-हरे धान के इन फूलों में

 

चित्र साभार गूगल



एक गीत-हरे धान के इन फूलों में


हरे धान के

इन फूलों में

चावल होंगे काले-गोरे ।


बादल-बिजली

धूप-छाँह में

हँसते हैं,बतियाते हैं ये,

चिकनी,भूरी

करइल,दोमट

सबमें गीत सुनाते हैं ये,

बच्चे उड़ते

पंख लगाकर

दूध -भात के देख कटोरे ।


कभी मूँगारी

हो जाते हैं कभी

जलप्रलय में बहते हैं,

पक जाने पर

रंग सुनहरे

लिए हमेशा ये रहते हैं,

इनकी आमद से

भर जाते कितने

कोठिला,कितने बोरे ।


मजदूरिन

होठों की लाली

इनसे ही कंगन औ बाली,

चिरई -चुनमुन

कजरी गैया

सबकी भरती इनसे थाली,

अक्षत,तिलक

यजन की वेदी

रस्म निभाते चावल कोरे ।

कवि-जयकृष्ण राय तुषार

चित्र साभार गूगल


10 comments:


  1. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में बुधवार 4 अगस्त 2021 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीया पम्मी जी सादर अभिवादन।आपका हृदय से आभार।

      Delete
  2. बहुत सुंदर सृजन आदरनीय ।

    सादर

    ReplyDelete
  3. अक्षत,तिलक

    यजन की वेदी

    रस्म निभाते चावल कोरे ।---बहुत ही अच्छी और महत्वपूर्ण विषय पर रचना।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर रचना।
    कमाल का प्रवाह है सर।

    प्रणाम
    सादर।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आपका आदरणीय

      Delete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद |

एक गीत-चाँदनी निहारेंगे

  चित्र साभार गूगल एक गीत-चाँदनी निहारेंगे रंग चढ़े मेहँदी के मोम सी उँगलियाँ हैं । धानों की मेड़ों पर मेघ की बिजलियाँ हैं। खुले हुए जूड़े और ब...