Wednesday, September 5, 2012

एक गीत -महाप्राण निराला को समर्पित -ओ सदानीरा निराला के सुनहरे गीत गाना

महाप्राण सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला 
एक गीत -महाप्राण निराला को समर्पित -
ओ सदानीरा निराला के सुनहरे गीत गाना 
पर्वतों की 
घाटियों से 
जब इलाहाबाद आना |
ओ सदानीरा !
निराला के 
सुनहरे गीत गाना |

आज भी 
'वह तोड़ती पत्थर '
पसीने में नहाये ,
सर्वहारा 
के लिए अब 
कौन ऐसा गीत गाये ,
एक फक्कड़ 
कवि हुआ था 
पीढ़ियों को तुम बताना |

'राम की थी 
शक्ति पूजा '
पर निराला गा रहे हैं ,
उस कथानक 
में निराला 
राम बनकर आ रहे है ,
अर्चना में 
कम न हो जाएँ 
कमल के फूल लाना |

आज भी है 
वहीं दारागंज 
संगम के किनारे ,
वक्त की 
लहरें मिटाकर 
ले गयीं पदचिन्ह सारे ,
ओ गगन 
जब गर्जना तो 
वही 'बादल राग 'गाना |

पूर्णिमा के 
ज्वार सा मन ,
वक्ष में आकाश सारा ,
वह 
इलाहाबाद का 
उसको इलाहाबाद प्यारा ,
मुश्किलों 
में भी न छोड़ा 
काव्य से रिश्ता निभाना |


वक्त  की 
पगडंडियों पर 
वह अकेला चल रहा था ,
आँधियों में 
एक जिद्दी दीप 
बनकर जल रहा था ,
जानते हैं 
सब  बहुत पर 
आज भी  वह कवि अजाना |

गोद बासन्ती 
मिली पर 
पत्थरों के गीत गाया ,
फूल 
साहूकार ,सेठों 
की तरह ही नज़र आया ,
छन्द तोड़ा 
मगर उसको 
छन्द आता था सजाना |
चित्र -गूगल से साभार 

10 comments:

  1. छन्द तोड़ा
    मगर उसको
    छन्द आता था सजाना |

    अंत तक आते आते मन भावविहल हो उठा
    क्या ही सुन्दर बात कही है
    आपकी लेखनी को नमन

    ReplyDelete
  2. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 06-09 -2012 को यहाँ भी है

    .... आज की नयी पुरानी हलचल में ....इस मन का पागलपन देखूँ .

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुंदर...........

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन...इस रचना के लिए आभार...

    ReplyDelete
  5. जानते हैं सब बहुत पर आज भी वह कवि अजाना'
    बहुत सही .

    भावपूर्ण सुन्दर कविता .

    ReplyDelete
  6. adbhut ...behtareen ...
    abhar is prastuti ke liye ...!!

    ReplyDelete
  7. अद्भुत!
    एक अत्यंत ही मधुर गीत जो नवगीतों के जनक महाप्राण निराला को समर्पित है।

    ReplyDelete
  8. निराला का निरालापन सबको बताना,
    कोई गीत गाना।

    ReplyDelete
  9. आप सभी का बहुत -बहुत आभार |

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद