Monday, 20 April 2020

एक गीत -जंगल में हिरनों की चीखें सुनते कहाँ पहाड़

पवित्र नर्मदा नदी -चित्र साभार गूगल 

एक गीत -
जंगल में हिरनों की चीखें सुनते कहाँ पहाड़ 

जंगल में 
हिरनों की चीखें 
सुनते कहाँ पहाड़ |

विन्ध्य ,सतपुड़ा 
मौन नर्मदा 
किससे कहे निमाड़ |

झरने लगे 
ज़हर फूलों से 
मौसम सोया है ,
नदियों के 
समीप ही 
जलकर जंगल रोया है ,

संकट में 
अपने ही घर के 
खुलते नहीं किवाड़ |

शहर न जाना 
छिपकर बैठे 
कितने आदमखोर ,
साँपों से 
गठबंधन करके 
नाच रहे कुछ मोर ,

घर में भी 
महफूज नहीं हम 
कौन लगाये बाड़ |

झरनों की 
जलती लहरें हैं 
लावा फूटा है ,
समरसता 
तक जाने वाला 
हर पुल टूटा है ,

संध्याएँ 
सहमी ,विक्षिप्त दिन 
सुबहें लगें उजाड़ |

कवि -जयकृष्ण राय तुषार 

चित्र -साभार गूगल 

विश्व राजनेता मोदी जी

माननीय प्रधानमंत्री भारत सरकार  श्री नरेंद्र मोदी जी  मोदी जी अब विश्व नेता बन चुके हैं-भारत की अलग पहचान बनाने वाले प्रधानमंत्री फिर विकास ...