Sunday, September 16, 2012

राजनीति के इस अरण्य में कितने आदमखोर हो गए

चित्र -गूगल से साभार 
एक नवगीत -राजनीति के इस अरण्य में 
पढ़ते -पढ़ते 
आप, और हम 
लिखते -लिखते बोर हो गए |
राजनीति के 
इस अरण्य में 
कितने आदमखोर हो गए |

पाँव तले 
शीशों की किरचें 
चेहरों पर नाख़ून दिख रहे ,
अदब घरों में 
तने असलहे 
फिर भी हम नवगीत लिख रहे ,
कटी पतंगें 
कब गिर जाएँ 
हम मांझे की डोर हो गए |

अख़बारों 
के पहले पन्ने 
उनके जो बदनाम हो गए ,
कालजयी 
कृतियों के लेखक 
कलाकार गुमनाम हो गए ,
काले कौवे 
हंस बन गए 
सेही वन के मोर हो गए |

गिरते पुल हैं 
टूटी सड़कें 
प्रजातंत्र लाचार हो गया ,
राजनीति 
का मकसद सेवा नहीं 
सिर्फ़  व्यापार हो गया ,
क्रांतिकारियों 
के वंशज हम 
अब कितने कमजोर हो गए |

मुखिया ,
मौसम हुए सयाने 
खुली आँख में धूल झोंकते ,
हम सब तो 
असमंजस बाबू 
पांच बरस पर सिर्फ़ टोकते ,
साथी 
सूरज बनना होगा 
अन्धेरे मुँहजोर हो गए |

14 comments:

  1. गिरते पुल हैं
    टूटी सड़कें
    प्रजातंत्र लाचार हो गया ,
    राजनीति
    का मकसद सेवा नहीं
    सिर्फ़ व्यापार हो गया ,

    bilkul sach likha hai aapne ...
    sundar rachna ...!!

    ReplyDelete
  2. कभी मुँह पर ताले जड़े, कभी पेड़ पर चढ़े,
    देखो, हम तो ऐसे ही क्षितिज की ओर बढ़े।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर....
    कटी पतंगें
    कब गिर जाएँ
    हम मांझे की डोर हो गए |

    लाजवाब अभिव्यक्ति......
    वाह!!!

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  4. इस नवगीत ने देश की वर्तमान पीड़ा को स्वर दिया है। ...गज़ब!

    ReplyDelete
  5. आज के हालात पर सटीक प्रस्तुति ... सुंदर गीत

    ReplyDelete
  6. आज की राजनितिक परिवेश पर सटीक रचना..
    बेहतरीन और लाजवाब...
    :-)

    ReplyDelete
  7. अख़बारों
    के पहले पन्ने
    उनके जो बदनाम हो गए ,
    कालजयी
    कृतियों के लेखक
    कलाकार गुमनाम हो गए ,
    काले कौवे
    हंस बन गए
    सेही वन के मोर हो गए ...

    बहुत खूब ... आज के हालात पे करार तप्सरा है ... लाजवाब नवगीत है ...

    ReplyDelete
  8. AAPKE BLOG PAR AAKAR BAHUT ACHCHHA
    LAGAA HAI . EK UMDA RACHNE PDHNE KA
    SAUBHAGYA PRAAPT HUA HAI .

    ReplyDelete
  9. AAPKE BLOG PAR AAKAR BAHUT ACHCHHA
    LAGAA HAI . EK UMDA RACHNE PDHNE KA
    SAUBHAGYA PRAAPT HUA HAI .

    ReplyDelete
  10. साथी
    सूरज बनना होगा
    अन्धेरे मुँहजोर हो गए |

    बहुत सच कहा है.अब तो यही एक उपाय बचा है...बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  11. कहीं ज़िंदगी खुद न आदमखोर बन जाय!

    ReplyDelete
  12. राजनीति का अरण्य ही ऐसा है जिस पर जितना कहो, लिखो कम ही कम है
    बहुत सार्थक सटीक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  13. आप सभी शुभचिंतकों का हृदय से आभार |

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद