Saturday, August 18, 2012

एक प्रेम गीत -मैं तुझमें तू कहीं खो गयी

चित्र -गूगल से साभार 
एक प्रेमगीत -मैं तुझमें तू कहाँ खो गयी 

यह भी क्षण 
कितना सुन्दर है 
मैं तुझमें तू कहीं खो गयी |
इन्द्रधनुष 
की आभा से ही 
प्यासी धरती हरी हो गयी |

जीवन बहती नदी 
नाव तुम ,हम 
लहरें बन टकराते हैं ,
कुछ की किस्मत 
रेत भुरभुरी कुछ 
मोती भी पा जाते हैं ,
मेरी किस्मत 
बंजारन थी 
जहाँ पेड़ था वहीँ सो गयी |

तेरी इन 
अपलक आँखों में 
आगत दिन के कुछ सपने हैं ,
पांवों के छाले 
मुरझाये अब 
फूलों के दिन अपने हैं ,
मेरा मन 
कोरा कागज था 
उन पर तुम कुछ गीत बो गयी |
चित्र -गूगल से साभार 
[ सबसे ऊपर लगे चित्र को देखकर ही इस गीत को लिखने का भाव प्रकट हुआ |इधर कुछ दिनों से लिखना मुश्किल हो रहा है फिर भी कोशिश कर रहा हूँ |]

5 comments:

  1. चित्र को देख कर रचना के भाव अच्छे बने है,,,
    बधाई,,,,तुसार जी ,,,,
    RECENT POST...: शहीदों की याद में,,

    ReplyDelete
  2. कहाँ मुश्किल था लिखना...
    इतना सहज गीत बन पड़ा है....
    बेहद सुन्दर.....

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर गीत लिखा है...
    कोशिश सफल हुई सर जी....
    :-)

    ReplyDelete
  4. रूमानियत की कविता

    ReplyDelete
  5. बहुत ही कोमल अभिव्यक्ति, कटी पतंग की याद आ गयी..

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद