Friday, October 21, 2011

एक गीत -सन्दर्भ -घर से दूर खड़ी दीवाली

चित्र -गूगल से साभार 
घर से दूर खड़ी दीवाली
घर से दूर 
खड़ी दीवाली 
सारी रात अमावस काली |

महालक्ष्मी 
गणपति बाबा 
धनकुबेर हो गए प्रवासी ,
फिर भी 
ले पूजा की थाली 
बाट जोहती पूरनमासी ,
संवरी बहू 
न बिंदिया चमकी 
फीकी है होठों की लाली |

मन में बस 
फुलझड़ियां छूटीं 
महंगाई के डर के मारे ,
घर -आंगन 
खपरैल -खेत में 
अंधकार ने पांव पसारे ,
घर की मलकिन 
उलटे -पलटे 
खाली जेबें बटुआ खाली |

हुई पीलिया ग्रस्त 
रोशनी 
सिकुड़ गयी दीये की बाती ,
उतर न पाया 
भूत कर्ज का 
उतर न पाई साढ़ेसाती ,
जितने भी 
सपने देखे थे 
सबके सब हो गए मवाली |
चित्र -गूगल से साभार 
[मेरा यह गीत जनसत्ता वार्षिकांक 2010[ कोलकाता से ]में प्रकाशित है ]

8 comments:

  1. सुंदर दीप मय प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  2. दीवाली को अभी से गुलजार कर दिया...जनसत्ता में प्रकाशन की भी बधाई.

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुतिकरण्।

    ReplyDelete
  4. बहुत ही खुबसूरत प्रस्तुति ....दीवाली की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  5. महालक्ष्मी
    गणपति बाबा
    धनकुबेर हो गए प्रवासी ,
    फिर भी
    ले पूजा की थाली
    बाट जोहती पूरनमासी ,
    यथार्थ चित्रण का सुन्दर रूप निखर गया है, आकर्षक प्रभावशाली सृजन राय साहब बहुत -२ बधाईयाँ जी / ,

    ReplyDelete
  6. फिर भी मचेगी धूम धाम से दीवाली ..क्यों जयकृष्ण जी ?

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर प्रस्‍तुति !!

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद