Sunday 16 June 2024

एक गीत -गंगा हमको छोड़ कभी इस धरती से मत जाना

 

गंगा तट हरिद्वार 

गंगा दशहरा की हार्दिक शुभकामनायें 


एक गीत -गंगा हमको छोड़ कभी 


गंगा हमको छोड़ कभी 

इस धरती से मत जाना 

माँ जैसे कल तक बहती थी 

वैसे बहती जाना.


तुम हो तो ये पर्व अनोखे 

ये साधू, सन्यासी,

तुमसे कनखल, हरिद्वार है 

तुमसे पटना, काशी,

जहाँ कहीं हर हर गंगे हो 

पलभर माँ रुक जाना.


भक्तों के ऊपर ज़ब भी 

संकट गहराता है,

सिर पर तेरा हाथ 

और आँचल लहराता है,

मुझको भी है तेरे 

पावन तट पर दीप जलाना.


माँ तुम नदी सदानीरा हो 

कभी न सोती हो,

गोमुख से गंगासागर तक 

सपने बोती हो,

जहाँ कहीं बंजर धरती हो 

माँ तुम फूल खिलाना.


राजा, रंक सभी की नैया 

हँसकर पार लगाती,

कंकड, पत्थर, शंख, सीपियाँ 

सबको गले लगाती,

तेरे तट पर बैठ अघोरी

 सीखे मंत्र जगाना.


छठे छमासे माँ हम 

तेरे तट पर आएंगे,

पान फूल, सिंदूर 

नारियल तुम्हें चढ़ाएंगे,

मझधारों में हम ना डूबें 

माँ तुम पार लगाना.


कवि -जयकृष्ण राय तुषार

यह गीत मेरे प्रथम संग्रह में प्रकाशित है.

गंगा मैया 

18 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों के आनन्द में" सोमवार 17 जून 2024 को लिंक की जाएगी ....  http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ... धन्यवाद! !

    ReplyDelete
  2. दिल को छूता हुआ सुन्दर गीत, गंगा से ऐसा ही नाता है जन-जन का

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आपका. सादर अभिवादन

      Delete
  3. वाह ! बहुत खूबसूरत सृजन!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आपका. नमस्ते

      Delete
  4. आपको भी गंगा दशहरा की हार्दिक शुभकामनाएं।
    बहुत सुंदर रचना।
    मां गंगा को नमन।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आपका. सादर अभिवादन

      Delete
  5. बहुत बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  6. बहुत ही खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आपका. सादर अभिवादन

      Delete
  7. बहुत बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  8. बहुत बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आपका. सादर अभिवादन

      Delete
  9. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद |

एक गीत -मन किसी को याद करता है

  चित्र साभार गूगल  एक गीत -मन किसी को याद करता है  जब गुलाबी फूल खिलते हैं  मौसमों से रंग मिलते हैं  पोछता हूँ धूल जब तस्वीर से  मन किसी को...