Monday, 14 February 2022

एक लोकभाषा गीत-प्रेम क रंग निराला हउवै

 

चित्र साभार गूगल

एक लोकभाषा गीत-

प्रेम क रंग निराला हउवै


सिर्फ़ एक दिन प्रेम दिवस हौ

बाकी मुँह पर ताला हउवै

ई बाजारू प्रेम दिवस हौ

प्रेम क रंग निराला हउवै


सबसे बड़का प्रेम देश की

सीमा पर कुर्बानी हउवै

प्रेम क सबसे बड़ा समुंदर

वृन्दावन कै पानी हउवै

प्रेम भक्ति कै चरम बिंदु हौ

तुलसी कै चौपाई हउवै

सूरदास,हरिदास,सुदामा

ई तौ मीराबाई हउवै

प्रेम क मन हौ गंगा जइसन

प्रेम क देह शिवाला हउवै


प्रेम मतारी कै दुलार हौ

बाबू कै अनुशासन हउवै

ई भौजी कै हँसी-ठिठोली

गुरु क शिक्षा,भाषन हउवै

बेटी कै सौभाग्य प्रेम हौ

बहिन क रक्षाबन्धन हउवै

सप्तपदी कै कसम प्रेम हौ

हल्दी,सेन्हुर,चन्दन हउवै

आज प्रेम में रंग कहाँ हौ

एकर बस मुँह काला हउवै


प्रेम न माटी कै रंग देखै

प्रेम नदी कै धारा हउवै

ई पर्वत घाटी फूलन कै

खुशबू कै फ़व्वारा हउवै

जइसे सजै होंठ पर वंशी

वइसे अनहद नाद प्रेम हौ

एके ढूँढा नहीं देह में

मन से ही संवाद प्रेम हौ

प्रेम न राजा -रंक में ढूंढा

ई गोकुल कै ग्वाला हउवै

कवि -जयकृष्ण राय तुषार 


चित्र साभार गूगल


चित्र-साभार गूगल

20 comments:

  1. बहुत सुंदर रचना,आदरणीय शुभकामनाएँ ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. मधुलिका जी आपका हार्दिक आभार।सादर अभिवादन

      Delete
  2. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (15-2-22) को पाश्चात्य प्रेमदिवस का रंग" (चर्चा अंक 4342)पर भी होगी।आप भी सादर आमंत्रित है..आप की उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी .
    --
    कामिनी सिन्हा

    ReplyDelete
  3. आपकी लिखी रचना  ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" मंगलवार 15 फरवरी 2022 को साझा की गयी है....
    पाँच लिंकों का आनन्द पर
    आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  4. सुंदर सृजन

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आपका।सादर अभिवादन

      Delete
  5. परेम सब कछुव हैय पर आजकल जौन चलत बा दिन दहाड़े उ परेम नाही हउवै... बढिया रचना👌👌👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया ।लेकिन यहाँ कविता में उस प्रेम का जिक्र नहीं है जिसकी तरफ आपका संकेत है

      Delete
  6. खूबसूरत सृजन

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुंदर रचना है आपकी

    ReplyDelete
  8. Replies
    1. सादर प्रणाम।आपका हृदय से आभार।

      Delete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद |

एक सामयिक गीत -शाम जुलाई की

भगवान जगन्नाथ जी  एक ताज़ा गीत -शाम जुलाई की  भीनी -सोंधी गंध लिए है शाम जुलाई की. गूंज रही आवाज़ हवा में तीजनबाई की. जगन्नाथ प्रभु की मंगल रथ...