Wednesday, 16 June 2021

एक गीत -पारदर्शी जल नदी का



एक गीत-पारदर्शी जल नदी का


पारदर्शी जल

नदी का और

जल में मछलियाँ हैं ।

गा रहा सावन

फिरोज़ी होंठ

वाली कजलियाँ हैं ।


उड़ रहे बादल

हवा में 

खेत-जंगल सब हरे हैं,

खिड़कियों में

आ रही बौछार

बादल सिरफ़िरे हैं 

सूर्य को

बन्धक बनाये

खिलखिलाती बिजलियाँ हैं ।


झील में 

नीले-गुलाबी

कमल फिर खिलने लगे हैं,

सांध्य बेला से

तनिक पहले

दिए जलने लगे हैं,

खुशबुओं के

पँख फैलाये

हवा में तितलियाँ हैं ।


कवि -जयकृष्ण राय तुषार

चित्र साभार गूगल


8 comments:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 17-06-2021को चर्चा – 4,098 में दिया गया है।
    आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी।
    धन्यवाद सहित
    दिलबागसिंह विर्क

    ReplyDelete
  2. प्राकृतिक छटा बिखेरती सुन्दर रचना ।

    ReplyDelete
  3. शब्द यूं रचे हैं आपने तुषार जी कि पढ़ते-पढ़ते लगता है जैसे वे दृश्य नयनों के सम्मुख ही हैं तथा हम उनसे आनंदित हो रहे हैं।

    ReplyDelete
  4. प्रकृति की छटा को सुंदर शब्दों से सजाया है आपने सुंदर सृजन ।

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद |

एक गीत -भारत की नारी

  कृष्ण भक्त मीराबाई एक गीत-भारत की नारी हर युग में भारत की नारी शिखरों को चूमा करती है। दीप शिखा बनकर जीवन के पथ का सारा तम हरती है । लिखती...