Saturday, September 3, 2011

मेरी एक गज़ल

चित्र -गूगल सर्च इंजन से साभार 
समन्दर से उठे हैं या नहीं बादल ये रब जाने 
नजूमी  बाढ़ का मंजर लगे खेतों को दिखलाने 

नमक से अब भी सूखी  रोटियां मज़दूर खाते हैं 
भले ही कृश्न चंदर ने लिखे हों इनपे अफ़साने 

रईसी देखना है मुल्क की तो क्यों भटकते हो 
किसी रहबर का घर देखो या फिर मंदिर के तहखाने 

मुसाफ़िर छोड़ दो चलना ये रस्ते हैं तबाही के 
यहाँ हर मोड़ पे मिलते हैं साकी और मयखाने 

चलो जंगल से पूछें या पढ़ें मौसम की ख़ामोशी 
परिंदे उड़ तो सकते हैं मगर गाते नहीं गाने 

ये वो बस्ती है जिसमें सूर्य की किरणें नहीं पहुंचीं 
करेंगें जानकर भी क्या ये सूरज- चाँद के माने


खवातीनों के हिस्से कम नहीं दुश्वारियां अब भी 
पलंग पर बैठने का हक नहीं है इनको सिरहाने  

सफ़र में साथ चलकर हो गए हम और भी तन्हा 
न उनको हम कभी जाने न वो हमको ही पहचाने 
चित्र -गूगल से साभार 

22 comments:

  1. ग़मज़दा करती ग़ज़ल ----संवाद बड़ा ही मारू बन पडा है !

    ReplyDelete
  2. रईसी देखना है मुल्क की तो क्यों भटकते हो
    किसी रहबर का घर देखो या फिर मंदिर के तहखाने

    wahhhhh!!!!!!! bahut dinon baad achee gazal padhne ko milee..samajik isthitiyon ka parichay karati, madhur aur bhavnatamak prastuti ke lie aapka abhar.

    ReplyDelete
  3. भाई अरविन्द मिश्र जी और डॉ० सुशीला जी आपका आभार

    ReplyDelete
  4. रईसी देखना है मुल्क की तो क्यों भटकते हो
    किसी रहबर का घर देखो या फिर मंदिर के तहखाने
    क्या बात है सर ! मुखरता इतनी की मुखर हो जाये मौन सहजता इतनी की, असहज हो जाये चैन,खुशनशिबी है की हम कह पा रहे हैं.. / बहुत अछे शेर व जहीन अल्फाज...शुक्रिया जी /

    ReplyDelete
  5. बेहद ख़ूबसूरत ग़ज़ल...

    ReplyDelete
  6. अभी भी सिर्फ़ सूखी रोटियां मज़दूर खाते हैं
    भले ही कृश्न चंदर ने लिखे हों इनपे अफ़साने
    तुषार भाई आपकी हर ग़ज़ल अभिभूत कर देती है। मक्खन की तरह मुलायम शेर में जो वज़्न होता है वह सीधे दिल पर वार करता है। हर शे’र उम्दा।
    चलो जंगल से पूछें या पढ़ें मौसम की ख़ामोशी
    परिंदे उड़ तो सकते हैं मगर गाते नहीं गाने

    ReplyDelete
  7. अभी भी सिर्फ़ सूखी रोटियां मज़दूर खाते हैं
    भले ही कृश्न चंदर ने लिखे हों इनपे अफ़साने
    तुषार भाई आपकी हर ग़ज़ल अभिभूत कर देती है। मक्खन की तरह मुलायम शेर में जो वज़्न होता है वह सीधे दिल पर वार करता है। हर शे’र उम्दा।
    चलो जंगल से पूछें या पढ़ें मौसम की ख़ामोशी
    परिंदे उड़ तो सकते हैं मगर गाते नहीं गाने

    ReplyDelete
  8. कभी कभी ये भीड़ न भाये,
    भीड़ रहे जब, रहूँ अकेला।

    ReplyDelete
  9. रईसी देखना है मुल्क की तो क्यों भटकते हो
    किसी रहबर का घर देखो या फिर मंदिर के तहखाने

    बहुत खूबसूरत गज़ल ..

    ReplyDelete
  10. ये वो बस्ती है जिसमें सूर्य की किरणें नहीं पहुंचीं
    करेंगें जानकर भी क्या ये सूरज- चाँद के माने

    Bahut Badhiya Gazal...

    ReplyDelete
  11. नमक से अब भी सूखी रोटियां मज़दूर खाते हैं
    भले ही कृश्न चंदर ने लिखे हों इनपे अफ़साने
    kamaal hai

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ||

    ReplyDelete
  13. रईसी देखना है मुल्क की तो क्यों भटकते हो
    किसी रहबर का घर देखो या फिर मंदिर के तहखाने ...

    Great couplets Tushaar ji . Badhaii.

    .

    ReplyDelete
  14. नमक से अब भी सूखी रोटियां मज़दूर खाते हैं
    भले ही कृश्न चंदर ने लिखे हों इनपे अफ़साने

    वाह वाह क्या बात निकाली दिल खुश हो गया

    ReplyDelete
  15. सुंदर,भाव पूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  16. बेहद ख़ूबसूरत ग़ज़ल..........

    ReplyDelete
  17. रईसी देखना है मुल्क की तो क्यों भटकते हो
    किसी रहबर का घर देखो या फिर मंदिर के तहखाने
    is sher ne to kamal kar diya pr gazal puri hi sunder hai .
    badhai
    rachana

    ReplyDelete
  18. चलो जंगल से पूछें या पढ़ें मौसम की ख़ामोशी
    परिंदे उड़ तो सकते हैं मगर गाते नहीं गाने

    रईसी देखना है मुल्क की तो क्यों भटकते हो
    किसी रहबर का घर देखो या फिर मंदिर के तहखाने

    sabhi sher bahut badhiya

    ReplyDelete
  19. चलो जंगल से पूछें या पढ़ें मौसम की ख़ामोशी
    परिंदे उड़ तो सकते हैं मगर गाते नहीं गाने ..

    बहुत खूब ... हर शेर जैसे कुछ हकीकत बयान कर रहा है ... लाजवाब ..

    ReplyDelete
  20. एक अच्छी गज़ल पढ़वाने के लिए शुक्रिया.

    ReplyDelete
  21. एक अच्छी गज़ल पढ़वाने के लिए शुक्रिया.

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद