Monday, November 25, 2013

एक गीत -बहुत दिनों से इस मौसम को बदल रहे हैं लोग

चित्र -गूगल से साभार 

एक गीत -बहुत दिनों से इस मौसम को 
बहुत दिनों से 
इस मौसम को 
बदल रहे हैं लोग |
अलग -अलग 
खेमों में बंटकर 
निकल रहे हैं लोग |

हम दुनिया को 
बदल रहे पर 
खुद को नहीं बदलते ,
अंधे की 
लाठी लेकर के 
चौरस्तों पर चलते ,
बिना आग के 
अदहन जैसे 
उबल रहे हैं लोग |

धूप ,कुहासा ,
ओले ,पत्थर 
सब जैसे के तैसे ,
दुनिया पहुंची  
अन्तरिक्ष में 
हम आदिम युग जैसे ,
नासमझी में 
जुगनू लेकर 
उछल रहे हैं लोग |

गाँव सभा की 
दूध ,मलाई 
परधानों के हिस्से ,
भोले भूखे 
बच्चे सोते 
सुन परियों के किस्से ,
ईर्ष्याओं की 
नम काई पर 
फिसल रहे हैं लोग |

हिंसा ,दंगे 
राहजनी में 
उलझी है आबादी ,
कितनी कसमें 
कितने वादे 
सुधर न पायी खादी ,
नागफ़नी वाली 
सड़कों पर 
टहल रहे हैं लोग |

12 comments:

  1. हम दुनिया को
    बदल रहे पर
    खुद को नहीं बदलते ,
    अंधे की
    लाठी लेकर के
    चौरस्तों पर चलते ,
    बिना आग के
    अदहन जैसे
    उबल रहे हैं लोग

    बढिया

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया...तीखा प्रहार करता कोमल सा गीत....

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  3. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि कि चर्चा कल मंगलवार २६/११/१३ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका वहाँ हार्दिक स्वागत है।मेरे ब्लॉग पर भी आयें ---http://hindikavitayenaapkevichaar.blogspot.in/पीहर से बढ़कर है मेरी ससुराल सखी(गीत

    बेहद खूबसूरत चित्र जुगनू का ...

    ReplyDelete
  4. वाह!
    बहुत सुन्दर गीत...!

    ReplyDelete
  5. सुंदर ...मर्मस्पर्शी गीत

    ReplyDelete
  6. ये लोग इतने ताकतवर हैं कि दूसरों कि आबो-हवा भी बदल डालते हैं...सुंदर चित्रण...

    ReplyDelete
  7. उम्दा ..सामयिक और सार्थक ..
    धूप ,कुहासा ,
    ओले ,पत्थर
    सब जैसे के तैसे ,
    दुनिया पहुंची
    अन्तरिक्ष में
    हम आदिम युग जैसे ,
    नासमझी में
    जुगनू लेकर
    उछल रहे हैं लोग |

    ReplyDelete
  8. आप सभी सुधीजनों का गीत पसंद करने हेतु बहुत -बहुत आभार |

    ReplyDelete
  9. कल 01/12/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद