Wednesday, October 12, 2011

एक गीत -चुप्पी ओढ़ परिन्दे सोये सारा जंगल राख हुआ

चित्र -गूगल से साभार 
चुप्पी ओढ़ परिंदे सोये सारा जंगल राख हुआ 
राजनीति के 
नियम न जानें 
फिर भी राजदुलारे हैं |
राजमहल की 
बुनियादों पर 
गिरती ये दीवारें हैं |

सबकी प्यास 
बुझाने वाले 
मीठे झरने सूखे हैं ,
गोदामों में 
सड़ते गेहूँ 
और प्रजाजन भूखे हैं ,
अब तो 
केवल अपनी प्यास 
बुझाते ये फव्वारे हैं |

चुप्पी ओढ़ 
परिन्दे सोये 
सारा जंगल राख हुआ ,
वनराजों का 
जुर्म हमेशा ही 
जंगल में माफ़ हुआ ,
कैसे -कैसे 
राजा ,मंत्री 
कैसे अब हरकारे हैं |

क्रान्ति 
सिताब -दियारा से हो 
या दांडी के रस्ते हो ,
संसद में 
जाकर के प्यारे 
बस जनता पर हँसते हो ,
रथयात्राएं 
कितनी भी हों 
हम हारे के हारे हैं |

राजघाट भी 
जाना हो तो चलें 
लिमोजिन कारों से ,
अब  समाजवादी, 
जननायक ,
आते  पांच सितारों से ,
हम शीशे की 
बन्द दीवारों में 
धुंधलाए पारे हैं |

जब भी हम 
चेहरे को देखें 
धुँधले दरपन आते हैं ,
सिर्फ़ 
रागदरबारी 
सत्ता के खय्याम सुनाते हैं ,
परिवर्तन 
विकास की बातें 
महज किताबी नारे हैं |

27 comments:

  1. वनराजों का
    जुर्म हमेशा ही
    जंगल में माफ़ हुआ ,

    बहुत खूब....बेहतरीन रचना...और साथ में लगा चित्र तो बेमिसाल है...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  2. परिवर्तन
    विकास की बातें
    महज किताबी नारे हैं |

    सच है.... बहुत उम्दा रचना

    ReplyDelete
  3. राजघाट पर
    फूल चढ़ाने गए
    लिमोजिन कारों में ,
    ये समाजवादी
    जननायक
    रहते पांच सितारों में ,
    बेहतरीन अल्फाजों में ,यथार्थ चित्रण बहुत पसंद आया ... बहुत-2 शुभ-कामनाएं राय साहब /

    ReplyDelete
  4. आपका आक्रोश भी बहुत शालीन होता है...मेरे विचार से सभी पार्टियों को बैठ के भारत का मास्टर प्लान बनाना चाहिए...सरकार चाहे कोई भी हो दिशा एक ही हो...नहीं तो नई सरकार पिछले को अन डू करने में ही लग जाती है...

    ReplyDelete
  5. चुप्पी ओढ़ परिन्दे सोये
    सारा जंगल राख हुआ ,
    वनराजों का जुर्म हमेशा ही
    जंगल में माफ़ हुआ ,
    कैसे -कैसे राजा ,मंत्री
    कैसे अब हरकारे हैं |

    इस कविता में बाज़ारवाद और वैश्वीकरण के इस दौर में अधुनिकता और प्रगतिशीलता की नकल और चकाचौंध में किस तरह हमारी ज़िन्दगी घुट रही है प्रभावित हो रही है, उसे आपने दक्षता के साथ रेखांकित किया है। बिल्कुल नए सोच और नए सवालों के साथ समाज की मौज़ूदा जटिलता को उजागर कर आपने सोचने पर विवश कर दिया है।

    ReplyDelete
  6. आदरणीय भाई मनोज जी ,भाई नीरज जी ,डॉ० मोनिका शर्मा जी ,भाई उदयवीर जी भाई प्रवीण पाण्डेय जी और भाई वाणभट्ट जी आपकी बहुमूल्य टिप्पणियों से मुझे लिखने में मदद मिलती है आप सभी का हृदय से आभार |

    ReplyDelete
  7. राजघाट भी
    जाना हो तो चलें
    लिमोजिन कारों से ,
    अब समाजवादी,
    जननायक ,
    आते पांच सितारों से ,
    हम शीशे की
    बन्द दीवारों में
    धुंधलाए पारे हैं |

    आज के हालत पर गंभीर कटाक्ष. चित्र तो सुभानल्लाह. बहुत बधाई.

    ReplyDelete
  8. वाह बड़ा ही सशक्त रच डाला है आज के हालात पर ..बधाई !

    ReplyDelete
  9. वनराजों का
    जुर्म हमेशा ही
    जंगल में माफ़ हुआ....
    जबरदस्त... प्रहारक रचना...
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  10. सही और सटीक अभिव्यक्ति ..

    ReplyDelete
  11. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच-666,चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete
  12. बहुत ही सुंदर रचना !!

    ReplyDelete
  13. mujhe to aapki rachnayen hamesha hi anoothi lagti hain!

    ReplyDelete
  14. आदरणीय डॉ० अरविन्द मिश्र जी ,रचना जी निवेदिता जी ,एस० एम० हबीब जी इस्मत जैदी जी रेखा जी दिलबाग विर्क जी और .....पारुल जी आप सभी का हृदय से आभार |

    ReplyDelete
  15. har bar ki tarah sunder ......satik chitran .....sab kuch itni khubsurti se ukera hai ........ salam hamara apko .


    apkai rachnaye saralta se sara chitran shikayton ke saath kar deti hai aur pata hi nahi chalta .sabhi pasand aati hai .

    dipawali ki shubhkamnaye ......advance mai .

    ReplyDelete
  16. शशि पुरवार जी आपका हृदय से आभार

    ReplyDelete
  17. अपनी प्यास बुझाते फव्वारे

    वाह वाह वाह, तुषार जी आप शब्दों के साथ कुशलता से सैर सपाटे करते हैं। बहुत खूब।


    गुजर गया एक साल

    ReplyDelete
  18. तुषार जी नमस्कार, आप मेरे ब्लाग पर आये अपनी उत्साह भरी शब्दावली मेरी रचना को प्रदान किया आपकी यह रचना बड़ी सशक्त है ओजपूर्ण पक्तिं- वन राजो का-------परिवर्तन------- जयहिन्द्।

    ReplyDelete
  19. राख़ पर भी हाथ.. अब साफ़ हुआ. .. प्रभावी रचना के लिए बधाई.

    ReplyDelete
  20. चुप्पी ओढ़
    परिन्दे सोये
    सारा जंगल राख हुआ ,
    वनराजों का
    जुर्म हमेशा ही
    जंगल में माफ हुआ ,
    कैसे -कैसे
    राजा ,मंत्री
    कैसे अब हरकारे हैं द्य

    क्या बात है, बहुत सुंदर गीत।

    ReplyDelete
  21. इतना झन्नाटेदार व्यंग ..वह भी इतने सुन्दर गीत में !
    अति सुन्दर तुषार भाई , अति सुन्दर

    ReplyDelete
  22. चुप्पी ओढ़
    परिन्दे सोये
    सारा जंगल राख हुआ ,
    वनराजों का
    जुर्म हमेशा ही
    जंगल में माफ़ हुआ ,
    कैसे -कैसे
    राजा ,मंत्री
    कैसे अब हरकारे हैं |

    _________________________

    बेहतरीन पंक्तियाँ
    बेहतरीन गीत

    ReplyDelete
  23. बेहतरीन कटाक्ष।

    ReplyDelete
  24. सत्य को कहती बहुत अच्छी रचना ... आभार

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद