Saturday, July 23, 2011

प्रेम गीत -यही रंग है

चित्र -गूगल सर्च इंजन से साभार 
यही रंग है -एक प्रेम गीत 

यही रंग है 
जो मिलता है 
कालिदास की उपमाओं में |
यही रूप है 
जिसे ढूंढता हर कवि 
अपनी कविताओं में |

फूल  सुवासित 
होते इससे मौसम 
अपना रंग बदलते ,
इसे देखकर 
जल लहराता अनगिन 
सीपी, शंख निकलते ,
लहरों के संग 
सोनमछलियाँ उठतीं -
गिरतीं सरिताओं में |

नीलगगन में 
इन्द्रधनुष के रंग 
इसी से आये होंगे ,
लोकरंग में 
रंगकर कजली 
कितने सावन गाये होंगे ,
यही हाथ में 
हाथ थामकर 
चलता घोर निराशाओं में |

यही रंग है 
जिसे उर्वशी और 
मेनका ने था पाया ,
यही रंग है 
जिसे जायसी ,ग़ालिब 
मीर सभी ने गाया ,
बिना अनूदित 
सब पढ़ लेते इसको 
अनगिन भाषाओँ में |

इसी रंग में 
रंगकर कितने राँझे 
कितने हीर हो गए ,
इसकी लौ में 
जलकर कितने 
पंडित और फकीर हो गए ,
कई बार हम 
इसी रंग के कारण 
पड़ते दुविधाओं में |
चित्र -गूगल से साभार 
[इन चित्रों से ही इस गीत का सृजन हुआ ]

29 comments:

  1. सी रंग में
    रंगकर कितने राँझे
    कितने हीर हो गए ,
    इसकी लौ में
    जलकर कितने
    पंडित और फकीर हो गए ,
    कई बार हम
    इसी रंग के कारण
    पड़ते दुविधाओं में |
    क्या बात है ,प्रेम तो दूर है बहु विषादों से परिभाषाओं से , साथ हैं तो अनुभूतियाँ ........ आभार जी

    ReplyDelete
  2. नीलगगन में
    इन्द्रधनुष के रंग
    इसी से आये होंगे ,
    लोकरंग में
    रंगकर कजली
    कितने सावन गाये होंगे ,
    यही हाथ में
    हाथ थामकर
    चलता घोर निराशाओं में |
    Harek shabd,harek pankti sundar hai!

    ReplyDelete
  3. नीलगगन में
    इन्द्रधनुष के रंग
    इसी से आये होंगे ,
    लोकरंग में
    रंगकर कजली
    कितने सावन गाये होंगे ,
    यही हाथ में
    हाथ थामकर
    चलता घोर निराशाओं में |

    Beautiful expression , Tushaar ji .

    .

    ReplyDelete
  4. ताज़ा बिम्बों-प्रतीकों-संकेतों से युक्त आपकी भाषा अभिव्यक्ति का माध्यम भर नहीं, हमारे मन की तहों में झांकने वाली आंख है। इस कविता का काव्य-शिल्प हमें सहज ही आपकी भाव-भूमि के साथ जोड़ लेता है। रंगों से भरे चित्रात्मक वर्णन पूरी तरह से बांधे रखता है।

    ReplyDelete
  5. बहुत ही शानदार प्रेमगीत है, बधाई स्वीकार कीजिए। पहले अंतरे में फुल को फूल कर लीजिए।

    ReplyDelete
  6. भाई धर्मेन्द्र जी त्रुटि /टाइपिंग मिस्टेक की और ध्यान दिलाने के लिए धन्यवाद |

    ReplyDelete
  7. सुन्दर अनुभूति .

    ReplyDelete
  8. अद्भुत शब्द-श्रंगार।

    ReplyDelete
  9. नीलगगन में
    इन्द्रधनुष के रंग
    इसी से आये होंगे
    लोकरंग में
    रंगकर कजली
    कितने सावन गाये होंगे
    यही हाथ में
    हाथ थामकर
    चलता घोर निराशाओं में ।

    अहा.., कितना सुंदर गीत है।
    मन झूम-झूम उठा।

    ReplyDelete
  10. गहरे भाव और अभिव्यक्ति के साथ बहुत ख़ूबसूरत रचना लिखा है आपने! बधाई!

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर गीत....

    ऐसा सुन्दर
    गीत गढा है,
    ह्रदय का
    आनंद बढ़ा है
    झूल रहां हूँ
    जैसे झूला
    भावों की सुगढ़ लताओं में...

    सादर...

    ReplyDelete
  12. tushar ji, kya rang chhalkaya hai? ham sabko sarabor kar diya . bahutkhoob!bahutsundar!

    ReplyDelete
  13. खूबसूरत अहसासों को पिरोती हुई एक सुंदर रचना. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  14. सच कहा ये प्रेम का रंग है ... हर प्रेमी में मिलता है ... मज़ा आया पढ़ के ...

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर रचना !

    ReplyDelete
  16. आप सभी ने इस गीत को पसंद किया इसके लिए आभार |

    ReplyDelete
  17. आप सभी ने इस गीत को पसंद किया इसके लिए आभार |

    ReplyDelete
  18. आप सभी ने इस गीत को पसंद किया इसके लिए आभार |

    ReplyDelete
  19. अनगिन भाष्यें बस समझी जाती है .बहुत ही खुबसूरत , मनभावन कविता है . बहुत अच्छी लगी.

    ReplyDelete
  20. वाह!...बहुत ख़ूब

    ReplyDelete
  21. इसी रंग में
    रंगकर कितने राँझे
    कितने हीर हो गए ,
    इसकी लौ में
    जलकर कितने
    पंडित और फकीर हो गए ,

    खूब ..बेहतरीन शाब्दिक अलंकरण लिए रचना ....

    ReplyDelete
  22. सिर्फ चित्रों से ही हुआ है...तो कोई बात नहीं...वैसे भाव बहुत गहरे से निकले हैं...

    ReplyDelete
  23. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  24. इसकी लौ में
    जलकर कितने
    पंडित और फ़कीर हो गए '
    ........वाह तुषार जी ......बहुत प्यारा गीत

    ReplyDelete
  25. excelent work done Mr. Tusharji
    Geet aur gazal dono hi bahut achi lagi.

    ReplyDelete
  26. Very beautiful poem....har bhaav aankhon ke saamne tha.bahut khoob.

    And I like your blog too..very well organized.

    Regards,
    Shaifali
    http://guptashaifali.blogspot.com

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद