Sunday, July 20, 2014

एक गीत -इस रक्तरंजित सुब्ह का मौसम बदलना

चित्र -गूगल से साभार 

एक गीत -
इस रक्तरंजित सुबह का मौसम बदलना 

इस रक्त रंजित 
सुब्ह का 
मौसम बदलना |
या गगन में 
सूर्य कल 
फिर मत निकलना |

द्रौपदी 
हर शाख पर 
लटकी हुई है ,
दृष्टि फिर 
धृतराष्ट्र की 
भटकी हुई है ,
भीष्म का भी 
रुक गया 
लोहू उबलना |

यह रुदन की 
ऋतु  नहीं ,
यह गुनगुनाने की ,
तुम्हें 
आदत है 
खुशी का घर जलाने की ,
शाम को 
शाम -ए -अवध 
अब मत निकलना |

10 comments:

  1. बहुत अच्छा व्यंग्य गीत है। इसे फेसबुक में शेयर किया हूँ।

    ReplyDelete
  2. आक्रोश को शब्द देने के लिए आभार...

    ReplyDelete
  3. कविता इतनी मार्मिक है कि सीधे दिल तक उतर आती है ।

    ReplyDelete
  4. आप सभी का शुक्रिया बहुत दिनों से ब्लॉग पर निष्क्रिय सा हो गया था |फिर भी आपका सहज स्नेह पाकर गदगद हूँ |आभार सहित

    ReplyDelete
  5. बढ़िया चित्रगीत।
    शायद कभी हालात बदलें!

    ReplyDelete
  6. उत्कृष्ट एवं समसामयिक ......

    ReplyDelete
  7. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, ४५ साल का हुआ वो 'छोटा' सा 'बड़ा' कदम - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  8. द्रौपदी
    हर शाख पर
    लटकी हुई है ,
    दृष्टि फिर
    धृतराष्ट्र की
    भटकी हुई है ,
    भीष्म का भी
    रुक गया
    लोहू उबलना |
    ...............................हालात अब बदलने ही होंगे।

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद