Friday, December 21, 2012

एक गीत नववर्ष के आगमन पर -खूंटियों पर टंगे कैलेण्डर नये हैं

चित्र -गूगल से साभार 
नया वर्ष शांति और समृद्धि लाए  ,भ्रष्टाचार और अत्याचार मिटाए |
मित्रों इस गीत के बाद मुझे गाँव जाना है |मेरी वापसी दो या तीन जनवरी को होगी ,तब तक मैं अंतर्जाल से दूर रहूँगा |आशा है आप अपना स्नेह बनाए रहेंगे |आप सभी के लिए जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में नववर्ष मंगलमय हो |
एक गीत -खूंटियों पर टंगे कैलेण्डर नये हैं 
दुधमुंहा 
दिनमान पूरब के 
क्षितिज से आ रहा है |
नया संवत्सर 
उम्मीदों की 
प्रभाती गा रहा है |

डायरी के 
गीत बासी हुए 
उनको छोड़ना है ,
अब नई 
पगडंडियों की 
ओर रुख को मोड़ना है ,
एक अंतर्द्वंद 
मन को 
आज भी भटका रहा है |

फिर हवा में 
फूल महकें 
धूप में आवारगी हो ,
पर्व -उत्सव 
के सुदिन लौटें 
मिलन में सादगी हो ,
नया मौसम 
नई तारीखें 
नशा सा छा रहा है |

गर्द ओढ़े 
खूटियों पर 
टंगे कैलेण्डर नये हैं ,
विदा लेकर 
अनमने से 
कुछ पुराने दिन गये हैं ,
तितलियों के 
पंख फूलों से 
कोई सहला रहा है |

फिर समय की 
सीढियों पर 
हो कबीरा की लुकाठी ,
मस्जिदों में 
हों अजानें ,
मंदिरों में वेदपाठी ,
चर्च 
गुरुद्वारों में 
कोई संत वाणी गा रहा है |
संगम इलाहाबाद -चित्र गूगल से साभार 

15 comments:

  1. सबको महके साल नया यह।

    ReplyDelete
  2. बहुत खूबसूरत लिखे हैं सर!
    नव वर्ष 2013 आपको सपरिवार मंगलमय हो।


    सादर

    ReplyDelete
  3. नव वर्ष की शुभकामनायें ... बहुत सुंदर गीत

    ReplyDelete
  4. Naye saal kee anek shubh kamnayen!

    ReplyDelete
  5. ये नयापन का नशा कभी न उतरे .. आपको भी शुभकामनाएं..

    ReplyDelete
  6. Aanewale ke saal ke liye anek shubhkamnayen!

    ReplyDelete
  7. वाह . बहुत उम्दा,सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति . हार्दिक आभार
    बहुत खूबसूरत
    नव वर्ष 2013 आपको सपरिवार मंगलमय हो।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर नववर्ष का माहौल बनाना शुरु कर दिया आपने...

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर... नया साल मंगलमय हो ....

    ReplyDelete
  10. आप सभी को नववर्ष की शुभकामनाएँ |

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर...नव वर्ष की शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  12. नव वर्ष की शुभकामनायें .....सुंदर अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  13. लाजवाब नवगीत भाव-विभोर कर गया ...

    ReplyDelete


  14. खूंटियों पर टंगे कैलेण्डर नये हैं
    दुधमुंहा दिनमान पूरब के क्षितिज से आ रहा है |
    नया संवत्सर उम्मीदों की प्रभाती गा रहा है |

    डायरी के गीत बासी हुए उनको छोड़ना है ,
    अब नई पगडंडियों की ओर रुख को मोड़ना है ,
    एक अंतर्द्वंद मन को आज भी भटका रहा है |
    वाह वाऽह ! क्या बात है !
    आदरणीय जयकृष्ण राय तुषार जी
    बहुत सुंदर नवगीत लिखा आपने...
    हमेशा की तरह ...

    आपकी लेखनी से ऐसे ही सुंदर सृजन होता रहे, यही कामना है …

    तसल्ली से गांव हो आइए ...
    यात्रा-प्रवास मंगलमय हो ...
    आपकी वापसी की प्रतीक्षा रहेगी , सुंदर सुंदर रचनाएं और गांव की यादें हमारे साथ बांटिएगा लौट कर ...
    :)


    नव वर्ष अब समीप ही है ...
    अग्रिम शुभकामनाओं सहित…
    राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  15. मंगल कामनाएं आपको और नए वर्ष को भी ...

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद