Saturday, April 16, 2011

गीत -इस सुनहरी धूप में

चित्र -गूगल सर्च इंजन से साभार 
इस सुनहरी धूप में 

इस सुनहरी धूप में 
कुछ देर बैठा कीजिए  |
आज मेरे हाथ की 
ये चाय ताजा पीजिए |

भोर में है आपका रूटीन 
चिड़ियों की तरह ,
आप कब रुकतीं ,हमेशा 
नयी घड़ियों की तरह ,
फूल हँसते हैं सुबह 
कुछ आप भी हँस लीजिए |

दर्द पाँवों में उनींदी आँख 
पर उत्साह मन में ,
सुबह बच्चों के लिए 
तुम बैठती -उठती किचन में ,
कालबेल कहती बहनजी 
ढूध तो ले लीजिए |

मेज़ पर अखबार रखती 
बीनती चावल ,
फिर चढ़ाती देवता पर 
फूल अक्षत -जल ,
पल सुनहरे ,अलबमों के 
बीच मत रख दीजिए |
,
हैं कहाँ  तुमसे अलग 
एक्वेरियम की मछलियाँ ,
अलग हैं रंगीन पंखों में 
मगर ये तितलियाँ ,
इन्हीं से कुछ रंग ले 
रंगीन तो हो लीजिए |

तुम सजाती घर 
चलो तुमको सजाएँ ,
धुले हाथों पर 
हरी मेहँदी लगाएं ,
चाँद सा मुख ,माथ पर 
सूरज उगा तो लीजिए |
चित्र -गूगल सर्च इंजन से साभार 

17 comments:

  1. इस सुनहरी धुप में किसी को आमंत्रित करना और उसके साथ समय बिताने का अपना मजा है ...आपने बहुत सुंदर तरीके से अपनी भावनाओं को अभिव्यक्त किया है .....आपका आभार

    ReplyDelete
  2. मेज़ पर अखबार रखती
    बीनती चावल ,
    फिर चढ़ाती देवता पर
    फूल अक्षत -जल ,
    पल सुनहरे ,अलबमों के
    बीच मत रख दीजिए |
    ,waah

    ReplyDelete
  3. इस सुनहरी धूप में
    कुछ देर बैठा कीजिए |
    आज मेरे हाथ की
    ये चाय ताजा पीजिए |

    वाह.....वाह.
    ताजा चाय का प्रयोग तो लाजवाब है !

    ReplyDelete
  4. वाह! क्या बात है सरल,सरस ,कुछ चुलबुलाती और प्यार का अहसास कराती आपकी अनुपम प्रस्तुति का.आभार

    ReplyDelete
  5. • ताज़ा बिम्बों-प्रतीकों-संकेतों से युक्त आपकी कविता की भाषा अभिव्यक्ति का माध्यम भर नहीं, जीवन की तहों में झांकने वाली आंख है। इस कविता का काव्य-शिल्प हमें सहज ही आपकी भाव-भूमि के साथ जोड़ लेता है। चित्रात्मक वर्णन कई जगह बांधता है।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर, बधाई स्वीकार कीजिए

    ReplyDelete
  7. हैं कहाँ तुमसे अलग
    एक्वेरियम की मछलियाँ
    अलग हैं रंगीन पंखों में
    मगर ये तितलियाँ
    इन्हीं से कुछ रंग ले
    रंगीन तो हो लीजिए ।

    गीत का लालित्य मोहक है। मौलिक भावभूमि पर उकेरा गया यह गीत किसी नयनाभिराम चित्र से कम नहीं।

    इस अनुपम रचना के लिए बधाई, तुषार जी।

    ReplyDelete
  8. is garmi ki kadak dhoop ke bavjood apke blog per sunheri dhoop paker sukoon ka anubhav prapt hua...... Dhanyawad....

    ReplyDelete
  9. तुम सजाती घर
    चलो तुमको सजाएँ ,
    धुले हाथों पर
    हरी मेहँदी लगाएं ,
    चाँद सा मुख ,माथ पर
    सूरज उगा तो लीजिए |
    Kitna pyara-sa khayal hai!

    ReplyDelete
  10. हैं कहाँ तुमसे अलग
    एक्वेरियम की मछलियाँ ,
    अलग हैं रंगीन पंखों में
    मगर ये तितलियाँ ,
    इन्हीं से कुछ रंग ले
    रंगीन तो हो लीजिए |

    शब्दों और भावों का बेजोड संगम...कविता का प्रवाह अद्वितीय..आपकी रचना ने निशब्द कर दिया..बधाई

    ReplyDelete
  11. तुम सजाती घर
    चलो तुमको सजाएँ ,
    धुले हाथों पर
    हरी मेहँदी लगाएं ,
    चाँद सा मुख ,माथ पर
    सूरज उगा तो लीजिए |

    वाह ... बहुत खूबसूरत पंक्तियां ।

    ReplyDelete
  12. man ko gudgudati panktiyaan..awesome!

    ReplyDelete
  13. आपका रचना संसार वृहद् एवम प्रभावी है सारी रचना उत्कृष्ट है . कविता का प्रवाह अद्वितीय है. आपकी कविता का साँचा मन को बहुत रुचा. और इस साँचे में ढाल दिये भाव को.बहुत खूबसूरत

    ReplyDelete
  14. आप सभी ने इस कविता /गीत को पसंद किया आभार

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद