Tuesday, October 26, 2010

दो रचनाएं : सन्दर्भ - करवा चौथ


जयकृष्ण राय तुषार 
उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर के सम्मुख
एक
आज करवा चौथ का दिन है

आज करवा चौथ
का दिन है
आज हम तुमको संवारेंगे।
देख लेना
तुम गगन का चांद
मगर हम तुमको निहारेंगे।

पहनकर
कांजीवरम का सिल्क
हाथ में मेंहदी रचा लेना,
अप्सराओं की
तरह ये रूप
आज फुरसत में सजा लेना,
धूल में
लिपटे हुए ये पांव
आज नदियों में पखारेंगे।

हम तुम्हारा
साथ देंगे उम्रभर
हमें भी मझधार में मत छोड़ना,
आज चलनी में
कनखियों देखना
और फिर ये व्रत अनोखा तोड़ना ,
है भले
पूजा तुम्हारी ये
आरती हम भी उतारेंगे।

ये सुहागिन
औरतों का व्रत
निर्जला, पति की उमर की कामना
थाल पूजा की
सजा कर कर रहीं
पार्वती शिव की सघन आराधना,
आज इनके
पुण्य के फल से
हम मृत्यु से भी नहीं हारेंगे।

दो 
जमीं के चांद को जब चांद का दीदार होता है

कभी सूरत कभी सीरत से हमको प्यार होता है
इबादत में मोहब्बत का ही इक विस्तार होता है

तुम्हीं को देखने से चांद करवा चौथ होता है
तुम्हारी इक झलक से ईद का त्यौहार होता है

हम करवा चौथ के व्रत को मुकम्मल मान लेते हैं
जमीं के चांद को जब चांद का दीदार होता है

निराजल रह के जब पति की उमर की ये दुआ मांगें
सुहागन औरतों का स्वप्न तब साकार होता है

यही वो चांद है बच्चे जिसे मामा कहा करते
हकीकत में मगर रिश्तों का भी आधार होता है

शहर के लोग उठते हैं अलार्मों की आवाजों पर
हमारे गांव में हर रोज ही जतसार होता है

हमारे गांव में कामों से कब फुरसत हमें मिलती
कभी हालीडे शहरों में कभी इतवार होता है।
चित्र -गूगल से साभार 

चित्र  ganeshaspeaks.com 

38 comments:

  1. bohot hi sundar varnan... aur kafi saaf shabdon mein...

    accha laga.

    ReplyDelete
  2. करवा चौथ के मौके पर बहुत ही सुंदर रचनाये साझा की हैं हार्दिक आभार

    ReplyDelete
  3. देख लेना
    तुम गगन का चांद
    मगर हम तुमको निहारेंगे।
    ....................
    है भले
    पूजा तुम्हारी ये
    आरती हम भी उतारेंगे।
    .................
    आज इनके
    पुण्य के फल से
    हम मृत्यु से भी नहीं हारेंगे।

    aapne to preet udel di !
    beautiful!

    ReplyDelete
  4. तुम्हीं को देखने से चांद करवा चौथ होता है
    तुम्हारी इक झलक से ईद का त्यौहार होता है
    kya baat kahi hai..salaam!

    ReplyDelete
  5. Bahut hi sundar kalpna tusharji badhai ranjana singh

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर कल्पना बधाई तुषार जी यश मालवीय

    ReplyDelete
  7. bha pratap somvansiji editor hindustan ne bhi sms dwara hame badhai diya hai

    ReplyDelete
  8. गज़ल और गीत दोनों ही आपकी विलक्षण प्रतिभा को उजागर कर रहे हैं...गज़ल तो कमाल की कही है आपने...बधाई स्वीकार करें...

    नीरज

    ReplyDelete
  9. bhut khoob . komal bhavnao ki aprtim prstuti .

    ReplyDelete
  10. खूबसूरत जज़्बात!! बधाई तुषार जी।

    ReplyDelete
  11. हम तुम्हारा
    साथ देंगे उम्रभर
    हमें भी मझधार में मत छोड़ना,

    सच्ची ....???
    भाग्यवान है वो ....
    दोनों ही रचनायें बहुत बढ़िया .....

    ReplyDelete
  12. तुम्हीं को देखने से चांद करवा चौथ होता है
    तुम्हारी इक झलक से ईद का त्यौहार होता है

    Kya badhiya khayal hai!

    ReplyDelete
  13. देख लेना
    तुम गगन का चांद
    मगर हम तुमको निहारेंगे।

    हम भी हमारे पास के चान्द को निहारेंगे ----------

    ReplyDelete
  14. .

    Beautiful creation on this pious occasion !

    .

    ReplyDelete
  15. प्रशंसनीय...एक दूसरे की पूरकता को रेखांकित करती हुई अप्रतिम रचनाएं।

    ReplyDelete
  16. सुंदर रचनायें

    ReplyDelete
  17. बहुत ही खूबसूरत हैं दोनों रचनाएँ.

    ReplyDelete
  18. aapki dono rachnaon ne nishabd kar diya hai ... bahut khoobsurat ehsaas liye hain dono rachnain... mujhe lagta hai duniye ke har pati ko ise padhna chahiye ... sach mein ... aabhaar

    ReplyDelete
  19. कभी सूरत कभी सीरत से हमको प्यार होता है
    इबादत में मोहब्बत का ही इक विस्तार होता है...

    बहुत सुन्दर भावपूर्ण अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  20. tusharji bahut pyara geet our utani hi bhav purna gazal man ko chho gayi. bahut sundar bahut khoob.

    ReplyDelete
  21. Tushar ji ..aapki ye karvachauth par gajal bahut man ko bhayi hai... maine ye gazal shukrvaar kee charchamanch par rakhne ki sochi hai... Dhanyvaad..

    ReplyDelete
  22. Tushar ji ..aapki ye karvachauth par gajal bahut man ko bhayi hai... maine ye gazal shukrvaar kee charchamanch par rakhne ki sochi hai... Dhanyvaad..

    ReplyDelete
  23. Tushar ji ..aapki ye karvachauth par gajal bahut man ko bhayi hai... maine ye gazal shukrvaar kee charchamanch par rakhne ki sochi hai... Dhanyvaad..

    ReplyDelete
  24. आप सबने मेरी करवा चौथ पर लिखी रचनाओँ को पढा और पसन्द किया इसके लिए आप सबका आभारी हूँ।

    ReplyDelete
  25. डाँ .नूतन जी सुखनवर के चर्चा मँच पर देने के लिए आपको धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  26. वाह गज़ब! बहुत सुन्दर रचनायें पढ़ने को मिली। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  27. क्या कहूँ आपकी इन अद्वितीय रचनाओं और आपके ह्रदय के इन सुन्दर भावों पर....

    परंपरा रही है कि स्त्रियाँ ही करवा चौथ या इन जैसे व्रत त्योहारों,उत्सवों पर भावोद्गार किया करती हैं..पर आपने जितना भावपूर्ण लिखा है...मन भर आया...
    भले लोग इतना सुन्दर रचना रच पायें या नहीं..पर ईश्वर करें ऐसे सुन्दर भाव प्रत्येक पुरुष के मन में हो...

    बहुत बहुत आभार आपका इन सुन्दर रचनाओं और सन्देश के लिए...

    ReplyDelete
  28. Sorry for my bad english. Thank you so much for your good post. Your post helped me in my college assignment, If you can provide me more details please email me.

    ReplyDelete
  29. Behtaren bhavon vale geet badhai tushar deependra

    ReplyDelete
  30. इन अद्‌भुत रचनाओँ के लिए आपको बधाई shlesh gautam

    ReplyDelete
  31. हमारे गांव में कामों से कब फुरसत हमें मिलती
    कभी हालीडे शहरों में कभी इतवार होता है।

    bahut badhiyaa hai sir.aur aap mere blog par aaye ,ghazal par tippanee kee, uske liye dhanyawaad

    ReplyDelete
  32. kya khub likha hai.........
    wah wah.... naveen ji ne is blog se mera parichay karaya............ mai aap ka abhari hu ki aap ne itni achi kavitao aur gazalo ko apne blog mein shamil kiya............

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद