Thursday, November 1, 2012

एक नवगीत -इस सूरज से कुछ मत मांगो

चित्र -गूगल से साभार 
एक नवगीत -इस सूरज से कुछ मत मांगो 
क्रांति करो 
अब चुप मत बैठो 
राजा नहीं बदलने वाला |
आग हुई 
चूल्हे की ठंडी 
अदहन नहीं उबलने वाला |

मंहगाई के 
रक्तबीज अब 
दिखा रहे हैं दिन में तारे ,
चुप बैठे हैं 
सुविधा भोगी 
जन के सब प्रतिनिधि बेचारे ,
कैलेन्डर की 
तिथियों से अब 
मौसम नहीं बदलने वाला |

कुछ ही दिन में 
कंकड़ -पत्थर 
मुंह के लिए निवाले होंगे ,
जो बोलेगा 
उसके मुंह पर 
कम्पनियों के ताले होंगे ,
भ्रष्टाचारी 
केंचुल पहने 
अजगर हमें निगलने वाला |

राजव्यवस्था 
ए०सी० घर में 
प्रेमचन्द का हल्कू कांपे ,
राजनीति का 
वामन छल से 
ढाई पग में हमको नापे ,
युवा हमारा 
अपनी धुन में 
ड्रम पर राग बदलने वाला |

हर दिन 
उल्का पिंड गिराते 
आसमान से हम क्या पाते ?
आंधी वाली 
सुबहें आतीं 
चक्रवात खपरैल उड़ाते ,
इस सूरज से 
कुछ मत मांगो 
शाम हुई यह ढलने वाला |
[आज रविवार 04-11-2012 को यह गीत अमर उजाला के साहित्य पृष्ठ शब्दिता में प्रकाशित हो गया है |सम्पादक साहित्य जाने -माने कवि/उपन्यासकार भाई  अरुण आदित्य जी का आभार ]

19 comments:

  1. बदलाव के लिए स्वयं ही कुछ करना होगा.... सार्थक रचना

    ReplyDelete
  2. बहुत खूब कही...सुन्दर शब्द संयोजन और कथ्य भी...

    ReplyDelete
  3. आज के हालात का सुंदर चित्रण ....

    ReplyDelete
  4. अति सुन्दर रचना..

    ReplyDelete
  5. डॉ० मोनिका जी संगीता जी ,अमृता तन्मय जी और भाई वानभट्ट जी आप सभी का आभार |

    ReplyDelete
  6. हमें तो सूरज पिछले तीन दिन से दिखायी ही नहीं पड़ा है।

    ReplyDelete
  7. आज के परिवेश पर बहुत ही बेहतरीन रचना...

    ReplyDelete
  8. हर दिन
    उल्का पिंड गिराते
    आसमान से हम क्या पाते ?
    आंधी वाली
    सुबहें आतीं
    चक्रवात खपरैल उड़ाते ,
    इस सूरज से
    कुछ मत मांगो
    शाम हुई यह ढलने वाला

    तुषार जी, उत्कृष्ट है यह नवगीत।
    समय का आईना है यह नवगीत।

    ReplyDelete
  9. क्रान्ति के ओजस्वी स्वर

    ReplyDelete
  10. सार्थक नवगीत।
    चमत्कारिक प्रयोगों ने मन मोह लिया।

    ReplyDelete
  11. आदरणीय पाण्डेय जी, रीना जी, भाई महेंद्र जी ,मिश्र जी और अग्रज मनोज जी आप सभी का बहुत -बहुत आभार |

    ReplyDelete
  12. राजव्यवस्था
    ए०सी० घर में
    प्रेमचन्द का हल्कू कांपे ,
    राजनीति का
    वामन छल से
    ढाई पग में हमको नापे ,

    ...आज की व्यवस्था का बहुत सटीक और भावपूर्ण चित्रण...लाज़वाब शब्द संयोजन....

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर गीत है , बहुत सामयिक भी। बहुत अच्छा लिख रहे है भाई , मेरी बधाई।

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर गीत...
    प्रकाशन की बधाई...

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  15. आजकल के हालात की सच्चाई दर्शाता हुआ गीत !
    प्रकाशन के लिए हार्दिक बधाई !
    ~सादर !

    ReplyDelete
  16. क्रान्ति का नया स्वर

    ReplyDelete
  17. दीवाली की अनेक शुभ कामनाएँ !

    ReplyDelete
  18. कुछ ही दिन में
    कंकड़ -पत्थर
    मुंह के लिए निवाले होंगे ,
    जो बोलेगा
    उसके मुंह पर
    कम्पनियों के ताले होंगे ,
    भ्रष्टाचारी
    केंचुल पहने
    अजगर हमें निगलने वाला |

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद