Thursday, August 9, 2012

कथा लेखिका नीलम शंकर की दो कविताएँ

कथा लेखिका -नीलम शंकर 
सम्पर्क -09415663226
कथा लेखिका नीलम शंकर की दो कविताएँ 
एक  
जब वह जन्मी थी 
तो सबने कहा 
घर में लक्ष्मी आयी 

जब वह सयानी हुई 
तो सबने कहा 
घर की रौनक बढ़ गयी 

जब वह विदा हुई  तो 
सबने कहा 
यह उस घर की इज्जत हो गयी 

जब वह बूढ़ी हुई  तो 
घर की सिपहसालार -
पहरेदार हो गई 

जब वह विधवा 
हो गई तो 
घर का मल्टीप्लग हो गई 

कोई भी उससे नहीं पूछता 
कि तुम क्या होना चाहती हो 
दो 
पृथ्वी पर दो ही जीव 
एक बलहीन दूसरा बलशाली 
तीसरे की 
खोज जारी है 

तब तक 
दो जीवों की विवेचना ही कर लें 

सच्चा बलशाली 
सदैव उदार ,सहनशील 
और सन्तोषी ही होता है 

शोषित सदैव 
बलहीन ही होता है 
यह किसने कहा है ?
शक्तिशाली का भी 
शोषण होता है 

शोषण उसकी उदारता का 
शोषण उसकी सहनशीलता का 
शोषण उसके सन्तोष का 

तीसरे की खोज पूरी हुई 
वह था सन्यासी 
कायम नहीं रख सका 
सामाजिक मान्यताओं को 
इसलिए कायर बन बैठा 

परिचय- नीलम शंकर मूलतः कथा लेखिका और सोशल एक्टिविस्ट हैं |इलाहाबाद में इस समय स्वतन्त्र लेखन कर रही नीलम शंकर की प्रथम कहानी वर्तमान साहित्य में प्रकाशित हुई थी तब से निरन्तर उनकी कहानियां प्रतिष्ठित पत्र -पत्रिकाओं में प्रकाशित होती रही हैं |नीलम शंकर का जन्म 07-10-1962 को पांडे बाबा ,कादीपुर सुल्तानपुर में हुआ था | विज्ञान में स्नातक नीलम शंकर ने बैंकिंग सेवा को पेशे के लिए चुना लेकिन बाद में उन्होंने  इस नौकरी को छोड़ दिया | सरकती रेत नीलम शंकर का प्रथम  कहानी संग्रह है |अगले कहानी संग्रह के प्रकाशन की प्रतीक्षा है |इनकी कहानियों का उर्दू और उड़िया में अनुवाद भी हो चुका है |यह लेखिका गहरे सामाजिक सरोकारों से जुड़ी हुई है |इनकी कहानियां पाठक मन पर गहरा प्रभाव छोड़ती हैं |नीलम शंकर कवितायें भी लिखती हैं |आज हम कविताओं के माध्यम से आपसे नीलम शंकर जी का परिचय करा रहे हैं |

6 comments:

  1. कवितायें बहुत अच्छी लगीं, पढ़वाने का आभार..

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन कवितायेँ पढ़वाईं...आभार..

    ReplyDelete
  3. अभिव्यक्तिपूर्ण रचनाएं नीलम शंकर की

    ReplyDelete
  4. नीलम शंकर जी की सुन्दर रचना हमसे साझा करने के लिए आभार .

    ReplyDelete
  5. बहुत प्रभावी ... सामयिक रचनाएं ... अर्थपूर्ण ... शुक्रिया इन्हें पढवाने का ...

    ReplyDelete
  6. नीलम जी का परिचय जानकार खुशी हुई. इनकी दोनों रचनाएँ बहुत उत्कृष्ट है, पढवाने के लिए बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद