Sunday, February 26, 2012

एक गीत -फूल देकर गया कोई

चित्र -गूगल से साभार 
फूल देकर गया कोई चाय देने के बहाने 
आम के 
नन्हें टिकोरे 
हो गए कितने सयाने |
झील ,पर्वत ,
घाटियाँ सब 
हो गए इनके ठिकाने |

कसमसाकर 
खुले जूड़े ,हरे -
वन ,सिवान महके ,
गांछ पर 
सोये पलाशों के 
हृदय प्रेमाग्नि दहके ,
फूल देकर 
गया कोई 
चाय देने के बहाने |

एक चिड़िया 
सुबह दरपन को 
निहारे ,चोंच मारे ,
मौसमों के 
रंग बदले 
और चढ़ने लगे पारे ,
पेड़ के 
कोटर बहेलिए 
आ गए तोते चुराने |

अजनबी ने 
पता पूछा 
हम उसी के हो गए ,
गाँव की 
जानी हुई 
पगडंडियों में खो गए ,
दिन अबोले 
कनखियों से 
लगे  फिर हमको बुलाने |
चित्र -गूगल से साभार 

13 comments:

  1. गाँव की
    जानी हुई
    पगडंडियों में खो गए ,
    दिन अबोले
    कनखियों से
    लगे फिर हमको बुलाने |

    बहुत सुन्दर रचना...
    सादर.

    ReplyDelete
  2. सरल सहज शब्दों में अपनी बात कहने का आपका कोई सानी नहीं...

    ReplyDelete
  3. Lambi bimaari ke baad ab avsar mila aap logon ko padhne ka ...bahut achchha likha aapne bahut2 badhai...

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन रचना, कोमल भावों को बड़े करीने से सजाया है..

    ReplyDelete
  5. एक चिड़िया
    सुबह दरपन को
    निहारे ,चोंच मारे ,
    मौसमों के
    रंग बदले
    और चढ़ने लगे पारे ,
    पेड़ के
    कोटर बहेलिए
    आ गए तोते चुराने |... सोलहवें साल की अदा

    ReplyDelete
  6. प्रेमानुभूति के स्वर!

    ReplyDelete
  7. फूल देकर
    गया कोई
    चाय देने के बहाने |
    Bahut sundar!

    ReplyDelete
  8. apki rachana .....aur tippani karu....na Tushar bhai .....rachanayen ....adbhud hoti hain ...bs kya likhun aage to ap samjh hi sakate hain

    ReplyDelete
  9. मन के सरल भावों को लिए सुंदर शब्द .....

    ReplyDelete
  10. गाँव की
    जानी हुई
    पगडंडियों में खो गए ,
    दिन अबोले
    कनखियों से
    लगे फिर हमको बुलाने |

    ...बहुत भावमयी रचना..शब्दों और भावों का अद्भुत संयोजन...

    ReplyDelete
  11. कसमसाकर
    खुले जूड़े ,हरे -
    वन ,सिवान महके ,
    गांछ पर
    सोये पलाशों के
    हृदय प्रेमाग्नि दहके ,
    फूल देकर
    गया कोई
    चाय देने के बहाने |

    ReplyDelete
  12. अति उत्तम  ।।। पढकर मन ह़र्षित हो उठा....बधाई  )))))))))))

    ReplyDelete
  13. पेड़ के
    कोटर बहेलिए
    आ गए तोते चुराने |

    सजीव दृश्य तैर गया आँखों के सामने

    इस सुन्दर गीत के लिए बधाई

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद