Wednesday, November 2, 2011

एक ताजा गीत -भरे कमण्डल में मंहगाई

चित्र -गूगल से साभार 
भरे कमण्डल में महंगाई
क्या सीखा  
रैदास से भाई ?
भरे कमण्डल में 
महंगाई |

तुम कबीर का 
हाल न पूछे ,
भूत -प्रेत 
बेताल न पूछे ,

भूले तुलसी 
की चौपाई |

जाति -धरम की 
किए  सियासत ,
फिर चुनाव में 
अपनी सांसत ,

हम बकरे 
तुम हुए कसाई |

घर में उड़ती 
धूल न देखा ,
पढ़े न घोटालों 
का लेखा ,

तुलसी चौरे 
पर मुरझाई |

वही पुरानी 
ढपली गाना ,
कैसे भी हो 
सत्ता पाना ,

सोने का मृग 
सीता माई |

धूनी जैसे 
होते चूल्हे ,
हाथ बंधे हैं 
टूटे कूल्हे ,

और पाँव में 
फटी बिवाई |

बहरे कान 
ढकी हैं ऑंखें ,
जिन्दा चिड़िया 
टूटी पाँखें ,

उड़े घोंसले 
आंधी आई |

राजनीति अब 
खेल तमाशा ,
शकुनि और 
शतरंजी पासा ,

धर्मराज सब 
गूंगे भाई |
[एक बड़ी पार्टी के युवराज कल बनारस में संत रविदास जी के मन्दिर में गए थे |देश की बड़ी -बड़ी समस्याओं पर युवराज मौन हैं |काश मूल समस्याओं पर अपना ध्यान खींचते |भाई अब जनता बहुत जागरूक है ]

8 comments:

  1. बहरे कान
    ढकी हैं ऑंखें ,
    जिन्दा चिड़िया
    टूटी पाँखें ,...badhiyaa

    ReplyDelete
  2. बिल्कुल सटीक चित्रण किया है।

    ReplyDelete
  3. सटीक चित्रण है पुराने पात्रों को ले कर ... लाजवाब ....

    ReplyDelete
  4. सुन्दर अभिव्यक्ति है.

    ReplyDelete
  5. कुछ बदले मिजाज की यथार्थ कविता , पसंद आई , बहुत -2 बधाई जी /

    ReplyDelete
  6. तुषार जी नमस्कार, सटीक चित्रण बहरे कान------

    ReplyDelete
  7. अंधे आगे
    क्या रोना है
    बांटो सुख
    सच्चा टोना है

    परहित सरिस
    धर्म नहीं भाई

    आपकी रचनायें लिखने को प्रेरित करतीं हैं...

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद