Thursday, August 11, 2011

एक गीत -मजहब के झगड़ों से बाहर



चित्र -गूगल से साभार 
मजहब के झगड़ों से बाहर 
बम दिल्ली 
न्यूयार्क में फटे या 
लाहौर ,कराची |
आँसू सबके 
एक तरह हैं 
लंदन हो या राची |

नदी ,पेड़ 
फूलों का मजहब 
हमने कभी न जाना ,
मौसम हँसकर 
गाता रहता 
सात सुरों में गाना ,
राजमिस्त्री 
जैसे गढ़ता 
ताजमहल या साँची |

खजुराहो को 
देखें या देखें 
सौ बार अजन्ता ,
युग बहरा है 
कहाँ प्रेम की -
भाषा कोई सुनता ,
मारी गयी 
गुलेलों से 
जब कोई चिड़िया नाची |

वेटिकन हो 
पेरिस हो या कि 
ढाका ,अमृतसर हो ,
मजहब के 
झगड़ों से बाहर 
लेकिन अपना घर हो ,
क़ाबा और 
यरुशलम हो या 
कामकोटि काँची |

9 comments:

  1. लेकिन अपना घर हो ,
    क़ाबा और
    यरुशलम हो या
    कामकोटि काँची |
    सामयिक ,संवेदनशील ,सार्थक समुन्नत सृजन ,..
    को बहुत -2 सम्मान जी /

    ReplyDelete
  2. हृदयस्पर्शी संवेदनशील सोच........ प्रासंगिक पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  3. अद्भुत! लगता है आप शब्दों से ही नहीं बिम्ब से भी एक नई दुनिया रच देते हैं। बहुत अच्छा।

    ReplyDelete
  4. यह मजहबी झगडे हमेशा आदमी को ही लीलते हैं .....! प्रासंगिक रचना ...!

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर और हृदयस्पर्शी रचना! लाजवाब प्रस्तुती!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सार्थक पोस्ट .....बधाई

    ReplyDelete
  7. काश, इस अंधकार से बाहर निकले जगत।

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन ... आम इंसान को और क्या चाहिए ... मज़ा आ गया पढ़ के ...

    ReplyDelete
  9. आपकी कवितायेँ सोचने पर विवश कर देतीं हैं...आदमी हर समय वर्चस्व की लड़ाई लड़ रहा है...अपनी श्रेष्ठता दूसरों पर साबित करने के लिए...काश की सह-अस्तित्व का बोध इन्हें बचपन से कराया जाए...

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद