Thursday, June 23, 2011

एक गीत-सन्दर्भ बेटियाँ

मेरी बेटी  -सौम्या राय 
यह गीत मेरी बेटी सौम्या सहित देश की सभी बेटियों को समर्पित हैं 

बेटियाँ तो भोर की 
पहली किरन सी हैं |
ये कभी थकती नहीं 
नन्हें हिरन सी हैं |

जिन्दगी में पर्व ये 
त्यौहार लाती  हैं ,
सुर्ख रँगोली बनाकर 
गीत गाती हैं ,
यज्ञ की वेदी यही 
पूजा- हवन सी हैं |

हँस पड़ें तो फूल 
रो दें झील होती हैं ,
ये अँधेरी रात में 
कंदील होती हैं ,
ये जमीनों ,आसमानों 
के मिलन सी हैं |

जब तलक होतीं 
पिता का घर सजातीं हैं ,
ये समय पे धूप 
घर में छाँव लती हैं ,
ये तपन में ग्रीष्म की 
शीतल पवन सी हैं |

18 comments:

  1. बेटियों से जुड़े कितने पावन भाव ...... एक पिता ही इन्हें शब्द दे सकते हैं......
    बड़ी प्यारी है आपकी सौम्या.... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  2. कोमल और पवित्र भावों से सजी आपकी यह रचना बहुत अच्छी लगी

    ReplyDelete
  3. वाह कितनी सहज और अभिव्यक्ति क्षम सुन्दर सी कविता -बधाई!

    ReplyDelete
  4. हँस पड़ें तो फूल
    रो दें झील होती हैं ,
    ये अँधेरी रात में
    कंदील होती हैं ,

    क्या बात है

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर नवगीत है। बधाई स्वीकार कीजिए। त्यौहार ‘लती’ को त्यौहार ‘लाती’ कर दीजिए।

    ReplyDelete
  6. धन्यवाद भाई धर्मेन्द्र जी टाइपिंग मिस्टेक की तरफ हमारा ध्यान खींचने के लिये |

    ReplyDelete
  7. बेटियां वाकई दिल के सबसे करीब होतीं हैं...बेहद संयत शब्दों में बेटियों का महत्व बखान करने के लिए...धन्यवाद...

    ReplyDelete
  8. आपकी बेटी सौम्या बहुत प्यारी है! बहुत सुन्दर और कोमल भाव से लिखी हुई आपकी ये रचना प्रशंग्सनीय है! बेहतरीन प्रस्तुती!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  9. पावन भाव जगाती पंक्तियां.......
    सौम्या को शुभकामनायें ......

    ReplyDelete
  10. 'हँस पड़ें तो फूल

    रो दें झील होती हैं

    ये अँधेरी रात में

    कंदील होती हैं '

    ...............वाह तुषार भाई .....रचना का हर बंद भावपूर्ण

    ............ह्रदयस्पर्शी रचना ने आँखें नम कर दीं

    ReplyDelete
  11. बेटियाँ तो भोर की
    पहली किरन सी हैं ।
    ये कभी थकती नहीं
    नन्हें हिरन सी हैं ।

    बहुत प्यारी रचना।
    बेटियां दो परिवारों को मिलाती है,
    और बेटे एक परिवार को दो बना देते हैं।

    ReplyDelete
  12. komal bhwanayen...so touchy!

    ReplyDelete
  13. हँस पड़ें तो फूल
    रो दें झील होती हैं ,
    ये अँधेरी रात में
    कंदील होती हैं ,
    ये जमीनों ,आसमानों
    के मिलन सी हैं |

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर रचना.बिटिया को प्यार और स्नेह.

    ReplyDelete
  15. बेटियों पर इस से बढ़िया रचना पढने को नहीं मिली.... भाव विभोर कर गई रचना...

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद