Wednesday, May 4, 2011

एक गीत -फिर मौसम बाँहों में भरना

चित्र -गूगल से साभार 
फिर मौसम बाँहों में भरना 
आयेंगे 
फिर अच्छे 
मौसम आयेंगे |
हम 
खेतों में धान 
रोपकर गायेंगे |

कुछ 
दिन और 
प्रतीक्षा करना ,
फिर 
मौसम 
बाँहों में भरना ,
सुख के 
दिन राहों में 
फूल  सजायेंगे |

प्रकृति 
होंठ पर दही लगा 
आचमन करेगी ,
कहीं अजंता 
कहीं एलोरा 
मांग भरेगी ,
पीले 
बाँसों में 
करील अँखुआयेंगे |

हारिल -
तोते टहनी -
टहनी डोलेंगे ,
हम भी 
उनकी ही 
भाषा में बोलेंगे ,
पपिहे 
पंचम दा के 
सुर में गायेंगे  |

असमान के 
बादल होंगे 
झीलों में ,
स्वप्न 
हमारे होंगे 
कोसों ,मीलों में ,
हम 
हाथों में कोई 
हाथ दबायेंगे |

9 comments:

  1. आयेंगे
    फिर अच्छे
    मौसम आयेंगे |
    हम खेतों में
    धान
    रोपकर गायेंगे |

    वाह बहुत सुंदर पंक्तियाँ .....


    तुषार जी अगर आप क्षणिकाएं लिखते हों तो अपनी दस, बारह क्षणिकाएं 'सरस्वती-सुमन' पत्रिका के लिए भेजिए
    साथ में अपना संक्षिप्त परिचय और छाया चित्र भी .....
    इस पते या मेल पर ......

    harkirat 'heer'
    18 east lane , sunderpur
    house no. 5
    Guwahaati-781005
    ASSAM

    ya

    harkiratheer@yahoo.in

    ReplyDelete
  2. आयेंगे
    फिर अच्छे
    मौसम आयेंगे |
    हम खेतों में
    धान
    रोपकर गायेंगे

    मन को छूने वाली पंक्तियाँ ..... बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  3. आयेंगे
    फिर अच्छे
    मौसम आयेंगे |
    हम
    खेतों में धान
    रोपकर गायेंगे |

    कुछ
    दिन और
    प्रतीक्षा करना ,
    फिर
    मौसम
    बाँहों में भरना ,
    सुख के
    दिन राहों में
    फूल सजायेंगे |
    Kitna badhiya intezaar hai jeevan me khushiyan aane kaa!

    ReplyDelete
  4. पीले
    बाँसों में
    करील अँखुआयेंगे |


    स्वप्न हमारे होंगे कोसों ,
    मीलों में ,
    हम हाथों में लेकर हाथ दबायेंगे |


    क्या बात है तुषार जी,, बाद के लिए भी बचा कर रखिये
    मिलेंगे तब हमको क्या सुनायेंगे ?
    :):):)

    आपके गीत तो कमाल धमाल होते हैं

    इस गीत में भी कुछ विशेष है
    कुछ ऐसा जो केवल महसूस कर के ही लिखा जा सकता है

    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  5. आयेंगे
    फिर अच्छे
    मौसम आयेंगे |
    हम खेतों में
    धान
    रोपकर गायेंगे |

    ___________________


    जब भी
    ऐसे मौसम आयेंगे
    साथ आपके
    हम भी गायेंगे

    ReplyDelete
  6. lay-taal sab hai..phir kyon nahi gungunayegen !!

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर नवगीत जो हमें शिक्षा देता है कि
    महान कार्य करने के लिए उमंग तथा उत्‍साह को अपना साथी बनाइए।

    ReplyDelete
  8. मेरे इस गीत को पसंद करने के लिए आप सभी का आभार |

    ReplyDelete
  9. गजब का प्रवाह है कविता में..आभार सुन्दर रचना के लिए

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद