Sunday, May 9, 2010

एक गीत -मां तुम गंगाजल होती हो

एक गीत -माँ तुम गंगाजल होती हो 
मेरी ही यादों में खोयी
अक्सर तुम पागल होती हो
मां तुम गंगा जल होती हो!
मां तुम गंगा जल होती हो!

जीवन भर दुःख के पहाड़ पर
तुम पीती आंसू के सागर
फिर भी महकाती फूलों सा
मन का सूना सा संवत्सर
जब-जब हम लय गति से भटकें
तब-तब तुम मादल होती हो।

व्रत, उत्सव, मेले की गणना
कभी न तुम भूला करती हो
सम्बन्धों की डोर पकड  कर
आजीवन झूला करती हो
तुम कार्तिक की धुली चांदनी से
ज्यादा निर्मल होती हो।

पल-पल जगती सी आंखों में
मेरी खातिर स्वप्न सजाती
अपनी उमर हमें देने को
मंदिर में घंटियां बजाती
जब-जब ये आंखें धुंधलाती
तब-तब तुम काजल होती हो।

हम तो नहीं भगीरथ जैसे
कैसे सिर से कर्ज उतारें
तुम तो खुद ही गंगाजल हो
तुमको हम किस जल से तारें।
तुझ पर फूल चढ़ायें कैसे
तुम तो स्वयं कमल होती हो।

22 comments:

  1. संसार की समस्त माताओं को नमन

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ...

    माँ तुझे सलाम

    ReplyDelete
  3. Maa ki samvedana se judi adbhut kavita.

    ReplyDelete
  4. Maa ki samvedana se judi adbhut kavita.dr. Mamata rai

    ReplyDelete
  5. माँ को समर्पित बेहतरीन रचना..बधाई !!

    ************************
    'शब्द सृजन की ओर' पर आज '10 मई 1857 की याद में' ! आप भी शामिल हों.

    ReplyDelete
  6. maa per ek behtareen kavita tusharji badhai.dhirendr pratap

    ReplyDelete
  7. very nice.deepak chaubey

    ReplyDelete
  8. Happy mother's daY. very nice Thanks

    ReplyDelete
  9. Tushar, blog par aaya, ghuma, sarsari najar dali. Bahut achchha laga. Tum achchhe geet likhte ho. man prasann hua. Kialash se milkar purani yaden taja ho gayee. unki dhamakedar hansi yad aa gayee. ve ek behtarin kavi to the hi, ek bemisal aadami bhi the. aajkal jo aadami nahin hain, ve bhi kavitayen kar rahe hain, isliye Kailash ki bahut yad aati hai. tumhen bahut sari shubhkamanayen, aise hi uper uthte jao.

    ReplyDelete
  10. तुषार जी यह कैता बहुत मार्मिक है।
    धनंजय

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति..बधाई !!

    ReplyDelete
  12. Aapke blog par vichran kiya, hriday prafullit ho utha.
    Maan tum gangajal hoti ho.....
    Maaan ke charno samarpit adbhut kavita hai....
    Yash malviya aaur kavi kailash gautam ji ke baare me aapne durlabh baaten likhi hai, jan kar man khush ho utha.
    Aapka prayas sarahniya hi nahi hai, balki aap anginat baaar badhai ke patra hai..


    HARDIK BADHAI......

    ReplyDelete
  13. Maa apne bachhon ke liye jab darti hai to khargosh ka dil rakhti hai..usee bachhe ke khatir sherni ban duniyase lad padti hai..

    ReplyDelete
  14. माँ के बारे में आपने कित्ती प्यारी कविता लिखी...बधाई.

    _________________
    पाखी की दुनिया में- 'जब अख़बार में हुई पाखी की चर्चा'

    ReplyDelete
  15. Aapke blog par vichran kiya, hriday prafullit ho utha.
    Maan tum gangajal hoti ho.....
    Maaan ke charno samarpit adbhut kavita hai....
    Yash malviya aaur kavi kailash gautam ji ke baare me aapne durlabh baaten likhi hai, jan kar man khush ho utha.
    Aapka prayas sarahniya hi nahi hai, balki aap anginat baaar badhai ke patra hai..


    HARDIK BADHAI......meher wan

    ReplyDelete
  16. wah bahut khub....

    ReplyDelete
  17. Bahut acchha likha hai aapne...
    Aaapki aagya se mere bhi shraddha suman....
    मेरा जीवन मेरी साँसे,
    ये तेरा एक उपकार है माँ!

    तेरे अरमानों की पलकों में,
    मेरा हर सपना साकार है माँ!

    तेरी छाया मेरा सरमाया,
    तेरे बिन ये जग अस्वीकार है माँ!

    मैं छू लूं बुलंदी को चाहे,
    तू ही तो मेरा आधार है माँ!

    तेरा बिम्ब है मेरी सीरत में,
    तूने ही दिए विचार हैं माँ!

    तू ही है भगवान मेरा,
    तुझसे ही ये संसार है माँ!

    सूरज को दिखाता दीपक हूँ,
    फिर भी तेरा आभार है माँ!

    ReplyDelete
  18. asadharan sakshatkaar

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद