Friday, May 7, 2010

गजल : वो एक खत है

चित्र -गूगल से साभार 


एक गज़ल -वो चुप रहे खुदा की तरह 

उसी के कदमों की आहट सुनाई देती है
कभी-कभार वो छत पर दिखाई देती है

मैं उससे बोलूं तो वो चुप रहे खुदा की तरह
मैं चुप रहूं तो खुदा की दुहाई देती है

वो एक खत है जिसे मैं छिपाये फिरता हूं
जहां खुलूस की स्याही दिखाई देती है

तमाम उम्र उंगलियां मैं जिसकी छू न सका
वो चूड़ी वाले को अपनी कलाई देती है

वो एक बच्ची खिलौनों को तोड  कर सारे
बड़े सलीके से मां को सफाई देती है

जयकृष्ण राय तुषार

18 comments:

  1. तमाम उम्र उंगलियां मैं जिसकी छू न सका
    वो चूड़ी वाले को अपनी कलाई देती है
    बहुत सुन्दर मन खुश को गया

    ReplyDelete
  2. तमाम उम्र उंगलियां मैं जिसकी छू न सका
    वो चूड़ी वाले को अपनी कलाई देती है


    kya bat he ab dil kahta he chudi wala ban jau

    ReplyDelete
  3. Behtreen gazal hai.badhai tusharji shubhra rai

    ReplyDelete
  4. बहुत ख़ूबसूरत और शानदार ग़ज़ल लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

    ReplyDelete
  5. मैं उससे बोलूं तो वो चुप रहे खुदा की तरह
    मैं चुप रहूं तो खुदा की दुहाई देती है

    तमाम उम्र उंगलियां मैं जिसकी छू न सका
    वो चूड़ी वाले को अपनी कलाई देती है

    बोलने के लिये कुछ छोडा ही नहीं भाई...

    ReplyDelete
  6. Bahut hi badiya ghazal...
    Talented :)
    Saari lines bahut khoobi se likhi hai par mujhe yeh wali best lagi...

    "उसी के कदमों की आहट सुनाई देती है
    कभी-कभार वो छत पर दिखाई देती है

    मैं उससे बोलूं तो वो चुप रहे खुदा की तरह
    मैं चुप रहूं तो खुदा की दुहाई देती है"

    Regards,
    Dimple

    ReplyDelete
  7. वो एक बच्ची खिलौनों को तोड कर सारे
    बड़े सलीके से मां को सफाई देती है

    ...बहुत सुन्दर ...शानदार अभिव्यक्तियों के लिए बधाई !!

    ReplyDelete
  8. तमाम उम्र उंगलियां मैं जिसकी छू न सका
    वो चूड़ी वाले को अपनी कलाई देती है
    ____________________
    अब इससे आगे क्या कहें तुषार जी. आपने खुद ही कह दिया.लाजवाब.

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर लिखा अंकल जी.

    आज मदर्स डे है...बधाई.

    ReplyDelete
  10. मेरे ब्लॉग पर पधारने का शुक्रिया ...बहुत सुंदर रचनाएं हैं आपकी

    ReplyDelete
  11. BHAI MANN GAY AAP KO KAYA KAVITA LIKI HAI ...... MAI IS KAVITA KO ESI ANUBHUTI MANO YEKAVITA ABHI LIKI HO......

    ReplyDelete
  12. BHAI MANN GAY AAP KO KAYA KAVITA LIKI HAI ...... MAI IS KAVITA KO ESI ANUBHUTI MANO YEKAVITA ABHI LIKI HO......

    ReplyDelete
  13. TANVIMISHRA9GMAIL.COMMay 9, 2010 at 5:25 PM

    BHAI MANN GAY AAP KO KAYA KAVITA LIKI HAI ...... MAI IS KAVITA KO ESI ANUBHUTI MANO YEKAVITA ABHI LIKI HO......

    ReplyDelete
  14. वो एक बच्ची खिलौनों को तोड कर सारे
    बड़े सलीके से मां को सफाई देती है
    वाह! क्या खूब !
    बहुत अच्छी गज़ल कही है.

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद