Tuesday, February 23, 2010

यह वर्ष बेमिसाल है होली मनाइये

यह वर्ष बेमिसाल है होली मनाइये
हर शखस फटेहाल है होली मनाइये
मनमोहनी हॅंसी ने रुला करके रख दिया
सौ रुपये में दाल है होली मनाइये

कुर्सी महल पवार के हिस्से में दोस्तों
अपने लिए पुआल है होली मनाइये
घर में नहीं है चीनी तो गुझिया न खाइये
अफसर के घर में माल है होली मनाइये

रंगों में घोटाला है मिलावट अबीर में
मौसम भी ये दलाल है होली मनाइये
हाथों में ले अबीर अमर सिंह न बैठिए
घर में भले बवाल है होली मनाइये

राहुल भी ठाकरे से हैं होली के मूड में
सादा बस एक गाल है होली मनाइये
जनता का जिस्म पड़ गया नीला तो क्या हुआ
सत्ता का चेहरा लाल है होली मनाइये

पाले में नंगा जिस्म ले मरता रहे किसान
मस्ती में लेखपाल है होली मनाइये
पी करके भंग सो रही संसद विधायिका
अपना किसे खयाल होली मनाइये

बहुमत में बहिन जी हैं विरोधी शिकस्त में
हाथी का सब कमाल है होली मनाइये
कैसा है इन्कलाब कोई शोर तक नहीं
बुझती हुई मशाल है होली मनाइये

4 comments:

  1. aapke sabhi geet padhe. ache geeton ke liye dhanyawaad. aise hi aur geet padhne ko milenge, asha hai.

    ReplyDelete
  2. bujhati hui mashal hai holi manaiye. Wah Sahab kya bat hai, aapki kavitao mai jamane ka dard hai.

    ReplyDelete
  3. tushar lage raho, rang layegi tumhari fankamasti ek din. bhai, tumhare ander ek bada rachnakaar kulbula raha hai. use es blog par utar kar amar kar do. meri shubhkaamnayen tumhare saath hain. late kailash ji aur yash malviye ji jaise rachnakaron ko bhi blog par le aayo aur kuchh milestones ko bhi. baaki tum behtar samajh sakate ho. Giteshwar

    ReplyDelete
  4. holi par apki rang bhari kavita.thanks

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी हमारा मार्गदर्शन करेगी। टिप्पणी के लिए धन्यवाद